Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Sep 2016 · 1 min read

गीत- मन के छोटे लोग बहुत बच के रहना…

गीत- मन के छोटे लोग बहुत बच के रहना…
★★★★★★★★★★★★★★★★★★★
बिन सोचे तुम खो मत जाना अनजाने के प्यार में
मन के छोटे लोग बहुत बच के रहना संसार में

सब पे ही विश्वास न करना
सावधान दुनिया से रहना
तेरी चिन्ता में पल भर भी
नींद न आती प्यारी बहना
दम घुटता है मेरा भी अब टोले या बाजार में-
मन के छोटे लोग बहुत बच के रहना संसार में

बहना कोई जल जाती है
सुन कर जान निकल जाती है
बेटी से है दुनिया फिर भी
दुनिया उसको छल जाती है
अच्छा होता जल जाती ये धरती ही इक बार में-
मन के छोटे लोग बहुत बच के रहना संसार में

लोगों में ईमान कहाँ है
नारी का सम्मान कहाँ है
घूम रहे पापी ऐसे अब
प्रश्न उठे भगवान कहाँ है
देर बहुत अंधेर बहुत है उसके भी दरबार में-
मन के छोटे लोग बहुत बच के रहना संसार में

– आकाश महेशपुरी

Language: Hindi
Tag: गीत
329 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Follow our official WhatsApp Channel to get all the exciting updates about our writing competitions, latest published books, author interviews and much more, directly on your phone.
Books from आकाश महेशपुरी
View all
You may also like:
जन्मदिन कन्हैया का
जन्मदिन कन्हैया का
Jayanti Prasad Sharma
पंजाबी गीत
पंजाबी गीत
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
करके देखिए
करके देखिए
Seema gupta,Alwar
गौरवमय पल....
गौरवमय पल....
डॉ.सीमा अग्रवाल
गुरु श्रेष्ठ
गुरु श्रेष्ठ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*पत्रिका समीक्षा*
*पत्रिका समीक्षा*
Ravi Prakash
भारत वर्ष (शक्ति छन्द)
भारत वर्ष (शक्ति छन्द)
नाथ सोनांचली
सलाम
सलाम
Shriyansh Gupta
पुतलों का देश
पुतलों का देश
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
वर्तमान से वक्त बचा लो तुम निज के निर्माण में तृतीय भाग
वर्तमान से वक्त बचा लो तुम निज के निर्माण में तृतीय भाग
AJAY AMITABH SUMAN
मेरा कलाम
मेरा कलाम
Shekhar Chandra Mitra
अगर आप
अगर आप
Dr fauzia Naseem shad
पितर
पितर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जीवात्मा
जीवात्मा
Mahendra singh kiroula
शब्दों को गुनगुनाने दें
शब्दों को गुनगुनाने दें
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
हिन्दी दोहा- मीन-मेख
हिन्दी दोहा- मीन-मेख
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
'कई बार प्रेम क्यों ?'
'कई बार प्रेम क्यों ?'
Godambari Negi
💐प्रेम कौतुक-170💐
💐प्रेम कौतुक-170💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
2751. *पूर्णिका*
2751. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
#शेर
#शेर
*Author प्रणय प्रभात*
हो गए
हो गए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मन की व्यथा।
मन की व्यथा।
Rj Anand Prajapati
मन का घाट
मन का घाट
Rashmi Sanjay
एतबार कर मुझपर
एतबार कर मुझपर
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
रिहाई - ग़ज़ल
रिहाई - ग़ज़ल
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
दिल से ना भूले हैं।
दिल से ना भूले हैं।
Taj Mohammad
जागो।
जागो।
Anil Mishra Prahari
स्वप्न पखेरू
स्वप्न पखेरू
Saraswati Bajpai
ऐ!मेरी बेटी
ऐ!मेरी बेटी
लक्ष्मी सिंह
"नशा इन्तजार का"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...