Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jul 2016 · 3 min read

गीत – प्रथम मिलन

क्या होता उस रात सखी सुन , सब बतलाती हूँ
प्रथम मिलन की तुझको सारी , कथा सुनाती हूँ

अरमानों की सजी सेज पर
बैठी थी सजकर
पिया खोल दरवाजा चुपके
आये फिर अंदर
कुण्डी करके बन्द सजन फिर
हल्का मुस्काये
अगले पल की सोच सोच कर
कांपी मैं थर थर
आकर मेरे पास पिया ने , हाथ छुआ मेरा
छूई’ मुई सी तब खुद को मैं, सिकुड़ी पाती हूँ
प्रथम मिलन की तुझको सारी , कथा सुनाती हूँ

धीरे धीरे घूँघट मेरा ,
ऊपर सरकाया
पूनम का फिर चाँद गगन से
धरती पर आया
साजन को मुझमें सपनों की ,
परी नजर आई
मैंने भी देखे सपनों को
सच होते पाया
एक अंगूठी मुँह दिखलाई , मुझको पहनाई
मन ही मन नजराना पाकर , मैं हर्षाती हूँ
प्रथम मिलन की तुझको सारी , कथा सुनाती हूँ

पिया मिलन की घड़ी आ गयी
दिल था घबराया
मीठी मीठी बातों से फिर
मुझको बहलाया
बड़े प्यार से माली ने जो
कली खिलाई थी
उसी कली को फूल बनाने
भँवरा मंडराया
तन से तन का हुआ मिलन तो , एक रस्म पगली
मन से मन के हुए मिलन के , लाभ गिनाती हूँ
प्रथम मिलन की तुझको सारी , कथा सुनाती हूँ

मन मिलने पर स्वर्ग धरा पर
दिखने लगता है
दूजे का सुख दुख अपना ही
लगने लगता है
तना मूल से सब वृक्षो का
जुड़ा हुआ जैसे
मानव मानव से ऐसे ही
जुड़ने लगता है
हो जाते है ए’क दूजे के , जीवन भर को हम
ऐसी पावन संस्कृति को मैं , शीश झुकाती हूँ
प्रथम मिलन की तुझको सारी , कथा सुनाती हूँ

मनोज मानव

क्या होता उस रात सखी सुन , सब बतलाती हूँ
प्रथम मिलन की तुझको सारी , कथा सुनाती हूँ

अरमानों की सजी सेज पर
बैठी थी सजकर
पिया खोल दरवाजा चुपके
आये फिर अंदर
कुण्डी करके बन्द सजन फिर
हल्का मुस्काये
अगले पल की सोच सोच कर
कांपी मैं थर थर
आकर मेरे पास पिया ने , हाथ छुआ मेरा
छूई’ मुई सी तब खुद को मैं, सिकुड़ी पाती हूँ
प्रथम मिलन की तुझको सारी , कथा सुनाती हूँ

धीरे धीरे घूँघट मेरा ,
ऊपर सरकाया
पूनम का फिर चाँद गगन से
धरती पर आया
साजन को मुझमें सपनों की ,
परी नजर आई
मैंने भी देखे सपनों को
सच होते पाया
एक अंगूठी मुँह दिखलाई , मुझको पहनाई
मन ही मन नजराना पाकर , मैं हर्षाती हूँ
प्रथम मिलन की तुझको सारी , कथा सुनाती हूँ

पिया मिलन की घड़ी आ गयी
दिल था घबराया
मीठी मीठी बातों से फिर
मुझको बहलाया
बड़े प्यार से माली ने जो
कली खिलाई थी
उसी कली को फूल बनाने
भँवरा मंडराया
तन से तन का हुआ मिलन तो , एक रस्म पगली
मन से मन के हुए मिलन के , लाभ गिनाती हूँ
प्रथम मिलन की तुझको सारी , कथा सुनाती हूँ

मन मिलने पर स्वर्ग धरा पर
दिखने लगता है
दूजे का सुख दुख अपना ही
लगने लगता है
तना मूल से सब वृक्षो का
जुड़ा हुआ जैसे
मानव मानव से ऐसे ही
जुड़ने लगता है
हो जाते है ए’क दूजे के , जीवन भर को हम
ऐसी पावन संस्कृति को मैं , शीश झुकाती हूँ
प्रथम मिलन की तुझको सारी , कथा सुनाती हूँ

मनोज मानव

Language: Hindi
Tag: गीत
3 Comments · 774 Views
You may also like:
Once Again You Visited My Dream Town
Manisha Manjari
बेटियाँ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
ए'तिराफ़-ए-'अहद-ए-वफ़ा
Shyam Sundar Subramanian
हिन्दू धर्म और अवतारवाद
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
अब कैसे कहें तुमसे कहने को हमारे हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
खुद को ज़रा तुम
Dr fauzia Naseem shad
तुम कैसे रहते हो।
Taj Mohammad
💐एय मेरी ज़ाने ग़ज़ल💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
खूब परोसे प्यार, खिलाये रोटी माँ ही
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ज़िन्दगी के किस्से.....
Chandra Prakash Patel
तेरी यादें
RAJA KUMAR 'CHOURASIA'
"चैन से तो मर जाने दो"
रीतू सिंह
मेरा परिवार
Anamika Singh
'हकीकत'
Godambari Negi
'स्मृतियों की ओट से'
Rashmi Sanjay
वो चाहता है उसे मैं भी लाजवाब कहूँ
Anis Shah
✍️ मैं काश हो गया..✍️
'अशांत' शेखर
क्या रखा है, वार (युद्ध) में?
Dushyant Kumar
हर घर तिरंगा अभियान कितना सार्थक ?
ओनिका सेतिया 'अनु '
जो बात तुझ में है, तेरी तस्वीर में कहां
Ram Krishan Rastogi
Prayer to the God
Buddha Prakash
$$पिता$$
दिनेश एल० "जैहिंद"
जेंडर जेहाद
Shekhar Chandra Mitra
नवगीत: ऐसा दीप कहाँ से लाऊँ
Sushila Joshi
“ अरुणांचल प्रदेशक “ सेला टॉप” “
DrLakshman Jha Parimal
कहाँवा से तु अइलू तुलसी
Gouri tiwari
घर
Saraswati Bajpai
*जिधर देखो उधर कुत्ते (हिंदी गजल/गीतिका)*
Ravi Prakash
मृगतृष्णा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
भारतीय लोकतंत्र की मुर्मू, एक जीवंत कहानी हैं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...