Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

गीत – जी लूँ जरा सा

गीत – जी लूँ जरा सा
॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰

मुझे लग रहा मैं मनुज हूँ मरा सा
तुझे देख लूँ आज जी लूँ जरा सा

खोई खुशी आजतक ना मिली है
ढूँढा कि छोड़ी न कोई गली है
किसी ने जलाया कि पौधा हरा सा-
तुझे देख लूँ आज जी लूँ जरा सा

इस बेबसी पे हँसे ये जमाना
सूझे नहीँ आज कोई ठिकाना
बहुत काँपता है बदन ये डरा सा-
तुझे देख लूँ आज जी लूँ जरा सा

कोई नहीँ हमसफर ना सहारा
अपना बना कर सभी ने नकारा
घड़ा मैँ कि हूँ एक दुख से भरा सा-
तुझे देख लूँ आज जी लूँ जरा सा

– आकाश महेशपुरी

172 Views
You may also like:
मंजिले जुस्तजू
Vikas Sharma'Shivaaya'
या इलाही।
Taj Mohammad
कांटों पर उगना सीखो
VINOD KUMAR CHAUHAN
जिन्दगी में होता करार है।
Taj Mohammad
अंतरराष्ट्रीय योग दिवस
Ram Krishan Rastogi
वेलेंटाइन स्पेशल (5)
N.ksahu0007@writer
💐 माये नि माये 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
【11】 *!* टिक टिक टिक चले घड़ी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
✍️सुर गातो...!✍️
"अशांत" शेखर
गीत
शेख़ जाफ़र खान
कब आओगे
dks.lhp
मां
Anjana Jain
गौरैया
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
जीवन मेला
DESH RAJ
चिड़ियाँ
Anamika Singh
कोई चाहने वाला होता।
Taj Mohammad
सबको हार्दिक शुभकामनाएं !
Prabhudayal Raniwal
जाने क्यों
सूर्यकांत द्विवेदी
काश बचपन लौट आता
Anamika Singh
बेबसी
Varsha Chaurasiya
कविता क्या है ?
Ram Krishan Rastogi
लौटे स्वर्णिम दौर
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
माँ, हर बचपन का भगवान
Pt. Brajesh Kumar Nayak
चमचागिरी
सूर्यकांत द्विवेदी
समय का सदुपयोग
Anamika Singh
लौट आई जिंदगी बेटी बनकर!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
काँटों में खिलो फूल-सम, औ दिव्य ओज लो।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
नित नए संघर्ष करो (मजदूर दिवस)
श्री रमण
भोजपुरी के संवैधानिक दर्जा बदे सरकार से अपील
आकाश महेशपुरी
खुदा मुझको मिलेगा न तो (जानदार ग़ज़ल)
रकमिश सुल्तानपुरी
Loading...