Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

गीत-आज मिलन की रात-रामबली गुप्ता

गीत

आज मिलन की रात सखी! प्रियतम से मिलने जाऊँगी।

लोक लाज सब छोड़ जगत के प्रीत की रीत निभाऊंगी।।
प्रियतम से मिलने………

जब निशा मध्य हो आएगी शशि स्वच्छ छटा बिखराएगा।
मैं सज-धज कुसुमाभूषण से निज अंग-अंग महकाऊंगी।।
प्रियतम से मिलने……………..

यूँ सहज ना सम्मुख जाऊंगी, जा कुंजों में छिप जाऊंगी।
पायल-चूड़ी खनका पहले उनको थोड़ा तड़पाऊंगी।।
प्रियतम से मिलने……………….

जब प्रेमाकुल हो जाएंगे कुछ व्याकुल वो हो जाएंगे।
थोड़ा शरमा, थोड़ा सकुचा फिर निकट चली मैं जाऊंगी।।
प्रियतम से मिलने……………

जब हाथ वो मेरा धर लेंगे बाहों मे अपने भर लेंगे।
उर में उनके छिप जाऊंगी सानिध्य-स्नेह-सुख पाऊंगी।।
प्रियतम से मिलने……………….

तन-मन का फिर मिलना होगा नैनों में रति-परिणय होगा।
चितवन से प्यास जगा मन में अधरों से मधु छलकाऊंगी।।
प्रियतम से मिलने…………….

फिर होंगी बातें सुख-दुख की, मिलने की और बिछुड़ने की।
नयनों से नीर बहाऊंगी सब हिय का हाल सुनाऊंगी।।
प्रियतम से………..

सखि! प्रिय से मिलने जाऊंगी।

रचना-रामबली गुप्ता

223 Views
You may also like:
स्वर कोकिला
AMRESH KUMAR VERMA
मौत ने कुछ बिगाड़ा नहीं
अरशद रसूल /Arshad Rasool
सागर बोला, सुन ज़रा
सूर्यकांत द्विवेदी
पीयूष छंद-पिताजी का योगदान
asha0963
बदनाम होकर।
Taj Mohammad
1-अश्म पर यह तेरा नाम मैंने लिखा2- अश्म पर मेरा...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ज़िन्दगी के किस्से.....
Chandra Prakash Patel
गर्मी
Ram Krishan Rastogi
शहीद रामचन्द्र विद्यार्थी
Jatashankar Prajapati
कोई तो हद होगी।
Taj Mohammad
"लाइलाज दर्द"
DESH RAJ
लूं राम या रहीम का नाम
Mahesh Ojha
✍️क्रांतिसूर्य✍️
"अशांत" शेखर
" समुद्री बादल "
Dr Meenu Poonia
A pandemic 'Corona'
Buddha Prakash
"पिता"
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
# हमको नेता अब नवल मिले .....
Chinta netam " मन "
गाँधी जी की लाठी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
💐💐प्रेम की राह पर-11💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
✍️KITCHEN✍️
"अशांत" शेखर
हाँ, अब मैं ऐसा ही हूँ
gurudeenverma198
पिता
KAMAL THAKUR
क्यों कहाँ चल दिये
gurudeenverma198
मैं परछाइयों की भी कद्र करता हूं
VINOD KUMAR CHAUHAN
हर अश्क कह रहा है।
Taj Mohammad
दिल तड़फ रहा हैं तुमसे बात करने को
Krishan Singh
ये जिंदगी एक उलझी पहेली
VINOD KUMAR CHAUHAN
मैं पिता हूँ
सूर्यकांत द्विवेदी
चिंता और चिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
"एक नज़्म लिख रहा हूँ"
Lohit Tamta
Loading...