Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#9 Trending Author

गीत- खुशहाली महँगी है कितनी आँसू कितने सस्ते हैं

गीत- खुशहाली महँगी है कितनी आँसू कितने सस्ते हैं
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
खुशहाली महँगी है कितनी आँसू कितने सस्ते हैं

हम तो पीड़ा झेल रहे हैं काँटे हैं अंगारे भी
अंधेरों में डूब गये हैं सूरज चाँद सितारे भी
सूझे ना मंजिल क्या अपनी और किधर को रस्ते हैं-
खुशहाली महँगी है कितनी आँसू कितने सस्ते हैं

जीवन की दुश्वारी को जब जब हमने सुलझाया है
राहों ने ही राह हमारी रोक हमें उलझाया है
हमको जिसने घेर लिये वे गम के सारे दस्ते हैं-
खुशहाली महँगी है कितनी आँसू कितने सस्ते हैं

जीवन का तो खेल खत्म जाने किसकी तैयारी है
दिखता है हल्का लेकिन ये पल पल होता भारी है
मन बच्चा है मन के ऊपर मन मन भर के बस्ते हैं-
खुशहाली महँगी है कितनी आँसू कितने सस्ते हैं

जबसे रोजी रोटी ने भी दामन अपना छोड़ा है
जिसको पाई पाई जोड़ा उसने ही दिल तोड़ा है
जो अपने थे वही दूर से करते आज नमस्ते हैं-
खुशहाली महँगी है कितनी आँसू कितने सस्ते हैं

– आकाश महेशपुरी

337 Views
You may also like:
गरीब लड़की का बाप है।
Taj Mohammad
"DIDN'T LEARN ANYTHING IF WE DON'T PRACTICE IT "
DrLakshman Jha Parimal
उसके मेरे दरमियाँ खाई ना थी
Khalid Nadeem Budauni
कैसे समझाऊँ तुझे...
Sapna K S
✍️✍️व्यवस्था✍️✍️
"अशांत" शेखर
✍️✍️भोंगे✍️✍️
"अशांत" शेखर
उड़ी पतंग
Buddha Prakash
Little baby !
Buddha Prakash
पिता का प्यार
pradeep nagarwal
दीप तुम प्रज्वलित करते रहो।
Taj Mohammad
अख़बार
आकाश महेशपुरी
सदगुण ईश्वरीय श्रंगार हैं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️दम-भर ✍️
"अशांत" शेखर
स्वयं में एक संस्था थे श्री ओमकार शरण ओम
Ravi Prakash
स्वेद का, हर कण बताता, है जगत ,आधार तुम से।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
शम्मा ए इश्क।
Taj Mohammad
प्यारा भारत
AMRESH KUMAR VERMA
परीक्षा को समझो उत्सव समान
ओनिका सेतिया 'अनु '
भाग्य लिपि
ओनिका सेतिया 'अनु '
"भोर"
Ajit Kumar "Karn"
✍️निशान✍️
"अशांत" शेखर
मेरी जिन्दगी से।
Taj Mohammad
जाने क्यों
सूर्यकांत द्विवेदी
स्वप्न-साकार
Prabhudayal Raniwal
यक्ष प्रश्न ( लघुकथा संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
सिर्फ एक भूल जो करती है खबरदार
gurudeenverma198
✍️"बारिश भी अक्सर भुख छीन लेती है"✍️
"अशांत" शेखर
देवता सो गये : देवता जाग गये!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
मुक्तक: युद्ध को विराम दो.!
Prabhudayal Raniwal
जीवन उर्जा ईश्वर का वरदान है।
Anamika Singh
Loading...