Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 5, 2022 · 1 min read

ग़ज़ल

ग़ज़ल

ज्यों पकने के कगार पे आने लगी फ़सल।
बाज़ार भाव ख़ुद का गिराने लगी फ़सल।।

हैरत में है किसान पसीने को बेंच कर,
ख़ाली है जेब और ठिकाने लगी फ़सल।।

खेतों में लहलहा के जो कहती थी कान में।
वादा वो बिन निभाये ही जाने लगी फ़सल।।

गुड़िया वो कल तलक़ थी नई फ़्रॉक माँगती,
बिक़ते ही लाड़ली को चिढ़ाने लगी फ़सल।

आँखों ने माँ की बच्चों को घुड़का तो यूँ लगा,
मजबूरियों में उसको दबाने लगी फ़सल।

सरकार से अनेकों बनीं योजनाएं पर,
लो कागज़ों में बिक के दिखाने लगी फ़सल।।

पर्सेंट सबके तय हैं मुहर्रिर हों या कि बॉस,
बँट-बँट के सबकी जेबों में जाने लगी फ़सल।

हैरान मैं किसान हूँ कर्ज़ों में डूबता,
इसबार तो मुहँ तक भी डुबाने लगी फ़सल।।

सूखा मैं उसके साथ दुपहरी में जेठ की,
इससे ही ‘नित्य’ अश्क़ों भिगाने लगी फ़सल।
©®
✍🏾🥲🌹🍀🌹🍀🌹
नित्यानन्द वाजपेयी ‘उपमन्यु’

1 Like · 49 Views
You may also like:
जाने क्या-क्या ? / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हमारी मां हमारी शक्ति ( मातृ दिवस पर विशेष)
ओनिका सेतिया 'अनु '
मकड़जाल
Vikas Sharma'Shivaaya'
वह मेरे पापा हैं।
Taj Mohammad
"मेरे पिता"
vikkychandel90 विक्की चंदेल (साहिब)
रूठ गई हैं बरखा रानी
Dr Archana Gupta
मुस्कुराहटों के मूल्य
Saraswati Bajpai
मनुज से कुत्ते कुछ अच्छे।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जीवन मे कभी हार न मानों
Anamika Singh
बुजुर्गो की बात
AMRESH KUMAR VERMA
नीति के दोहे 2
Rakesh Pathak Kathara
जवानी
Dr.sima
नफरत की राजनीति...
मनोज कर्ण
अपनी क़िस्मत को फिर बदल कर देखते हैं
Muhammad Asif Ali
💐💐प्रेम की राह पर-15💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आत्महत्या क्यों ?
Anamika Singh
चेतना के उच्च तरंग लहराओं रे सॉवरियाँ
Dr.sima
मिट्टी की कीमत
निकेश कुमार ठाकुर
बुंदेली दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
आसान नहीं होता है पिता बन पाना
Poetry By Satendra
जब तुमने सहर्ष स्वीकारा है!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
पितृ वंदना
मनोज कर्ण
झुलसता पर्यावरण / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अभी तुम करलो मनमानियां।
Taj Mohammad
मिला है जब से साथ तुम्हारा
Ram Krishan Rastogi
यादों का मंजर
Mahesh Tiwari 'Ayen'
कहां चला अरे उड़ कर पंछी
VINOD KUMAR CHAUHAN
तेरी नजरों में।
Taj Mohammad
!!! राम कथा काव्य !!!
जगदीश लववंशी
महफिल में छा गई।
Taj Mohammad
Loading...