Oct 12, 2016 · 1 min read

गीतिका

अभी तो बस जरा हमने कला अपनी दिखायी है
समझ में लग रहा उसको भली सब बात आयी है।1

अमन की कोशिशों को अब तलक वह ढ़ोंग कहता था,
लगा झटका घुसरती जा रही सारी ढ़ी’ठाई है।2

मजा आता बहुत उसको मुफत का माल खाने में,
कहाँ टिकती कभी जो भीत बालू की बनायी है?3

अकेले में लगाते गर बहुत दिलवर जमाने में,
निभाने की घड़ी सबने बड़ी आँखें दिखायी है।4

निहायत बेसुरा बनता किसीकी बात में आकर,
मिली है कैद ही उसको कहाँ होती रिहाई है।5

दिये आँसू अभी तक तो सभी को बेवजह उसने,
छिपाते चल रहा खुद के नजर उसकी लजायी है।6

रहें खुशहाल सब हमको जरा खुशहाल रहने दें,
यही अपनी जरूरत बस यही अपनी दुहाई है।7
@मनन

95 Views
You may also like:
"ममता" (तीन कुण्डलिया छन्द)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
!!*!! कोरोना मजबूत नहीं कमजोर है !!*!!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
दिल की आरजू.....
Dr. Alpa H.
पिता
Buddha Prakash
चश्मे-तर जिन्दगी
Dr. Sunita Singh
आह! 14 फरवरी को आई और 23 फरवरी को चली...
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पिता एक विश्वास - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
💐💐प्रेम की राह पर-11💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
इंसाफ हो गया है।
Taj Mohammad
मनस धरातल सरक गया है।
Saraswati Bajpai
हम और तुम जैसे…..
Rekha Drolia
👌राम स्त्रोत👌
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दिनेश कार्तिक
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
-:फूल:-
VINOD KUMAR CHAUHAN
बच्चों के पिता
Dr. Kishan Karigar
संस्मरण:भगवान स्वरूप सक्सेना "मुसाफिर"
Ravi Prakash
=*बुराई का अन्त*=
Prabhudayal Raniwal
राम काज में निरत निरंतर अंतस में सियाराम हैं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बाबासाहेब 'अंबेडकर '
Buddha Prakash
धरती की फरियाद
Anamika Singh
आईना पर चन्द अश'आर
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
रेलगाड़ी- ट्रेनगाड़ी
Buddha Prakash
माँ गंगा
Anamika Singh
पिता
Rajiv Vishal
* प्रेमी की वेदना *
Dr. Alpa H.
परिवर्तन की राह पकड़ो ।
Buddha Prakash
आप कौन है
Sandeep Albela
पिता अम्बर हैं इस धारा का
Nitu Sah
अभी बाकी है
Lamhe zindagi ke by Pooja bharadawaj
कर्ज भरना पिता का न आसान है
आकाश महेशपुरी
Loading...