#1 Trending Author

गीतिका- हँसना तो एक बहाना है

गीतिका- हँसना तो एक बहाना है
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
हँसना तो एक बहाना है।
गम का भी इधर खजाना है।।
०००
क्यूँ बैठा हूँ आस लगाए,
किसका ये हुआ जमाना है।
०००
है चाहत मिल जाये दुनिया,
पर दुनिया से ही जाना है।
०००
आखिर कितना दर्द सहेंगे,
कुछ इसका भी पैमाना है।
०००
है जितना नजरों में पानी,
बस अपनों का नजराना है।
०००
कितना भी “आकाश” उड़ो तुम,
इस धरती पर ही आना है।

– आकाश महेशपुरी

273 Views
You may also like:
साँप की हँसी होती कैसी
AJAY AMITABH SUMAN
परीक्षा एक उत्सव
Sunil Chaurasia 'Sawan'
श्री राम
नवीन जोशी 'नवल'
मेरा ना कोई नसीब है।
Taj Mohammad
चमचागिरी
सूर्यकांत द्विवेदी
सूरज का ताप
सतीश मिश्र "अचूक"
मेरे बेटे ने
Dhirendra Panchal
*!* मोहब्बत पेड़ों से *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
सुनो ! हे राम ! मैं तुम्हारा परित्याग करती हूँ...
ओनिका सेतिया 'अनु '
सितम देखते हैं by Vinit Singh Shayar
Vinit Singh
परिवार
सूर्यकांत द्विवेदी
स्वेद का, हर कण बताता, है जगत ,आधार तुम से।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
रसीला आम
Buddha Prakash
All I want to say is good bye...
Abhineet Mittal
बुलंद सोच
Dr. Alpa H.
बसन्त बहार
N.ksahu0007@writer
नूतन सद्आचार मिल गया
Pt. Brajesh Kumar Nayak
*रामपुर रजा लाइब्रेरी में रक्षा-ऋषि लेफ्टिनेंट जनरल श्री वी. के....
Ravi Prakash
सोने की दस अँगूठियाँ….
Piyush Goel
सारी दुनिया से प्रेम करें, प्रीत के गांव वसाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सोए है जो कब्रों में।
Taj Mohammad
💐प्रेम की राह पर-34💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आद्य पत्रकार हैं नारद जी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
इतना शौक मत रखो इन इश्क़ की गलियों से
Krishan Singh
पितृ महिमा
मनोज कर्ण
श्री राम स्तुति
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग ७]
Anamika Singh
हस्यव्यंग (बुरी नज़र)
N.ksahu0007@writer
*मृदुभाषी श्री ऊदल सिंह जी : शत-शत नमन*
Ravi Prakash
ऐ जिन्दगी
Anamika Singh
Loading...