Sep 6, 2016 · 1 min read

गीतिका/ग़ज़ल

एक गीतिका/गजल………….मात्रा भार-26
“गीतिका/गजल”

घास पूस लिए बनते छप्पर छांव देखे हैं
हाथ-हाथ बने साथ चाह निज गाँव देखे हैं
गलियां पगडंडी जुड़ जाएं अपनी राह लिए
खेत संग खलिहान में चलते पाँव देखे हैं॥

आँधी-पानी बिजली कड़के खुले आकाशों से
गरनार तरते पोखर गागर नाव देखे हैं॥

शादी-ब्याह सगुण-निर्गुण प्रीति चाह अनोखी
नाता-आस परस्पर रिस्ता निर-वाह देखे हैं॥

अर्थी सत्य सैकड़ों कंधे राम-नाम उच्चारें
जाति-पाति मानक मानवता भाव देखे हैं॥

गौतम तेरे शहरों को कैसे पहचाने रे
अर्थी अर्थ बिना का कंधा अ-भाव देखे हैं॥

महातम मिश्रा, गौतम गोरखपुरी

121 Views
You may also like:
गोरे मुखड़े पर काला चश्मा (व्यंग्य)
श्री रमण
दादी मां बहुत याद आई
VINOD KUMAR CHAUHAN
अनजान बन गया है।
Taj Mohammad
🍀🌺प्रेम की राह पर-42🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
प्रकृति का उपहार
Anamika Singh
🌺🌺🌺शायद तुम ही मेरी मंजिल हो🌺🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मोहब्बत का समन्दर।
Taj Mohammad
गधा
Buddha Prakash
🍀🌺प्रेम की राह पर-44🍀🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
प्रार्थना
Anamika Singh
पहचान लेना तुम।
Taj Mohammad
सीख
Pakhi Jain
आज की पत्रकारिता
Anamika Singh
मन बस्या राम
हरीश सुवासिया
लाडली की पुकार!
Dr. Arti 'Lokesh' Goel
आपके जाने के बाद
pradeep nagarwal
मन की मुराद
मनोज कर्ण
कुछ नहीं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
साल गिरह
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
【8】 *"* आई देखो आई रेल *"*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
ग़ज़ल
kamal purohit
चेहरा अश्कों से नम था
Taj Mohammad
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग१]
Anamika Singh
!!*!! कोरोना मजबूत नहीं कमजोर है !!*!!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
💐 देह दलन 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गाँव कुछ बीमार सा अब लग रहा है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पुस्तकें
डॉ. शिव लहरी
पापा
सेजल गोस्वामी
💐प्रेम की राह पर-24💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
गाँव री सौरभ
हरीश सुवासिया
Loading...