Sep 9, 2016 · 1 min read

गीतिका/ग़ज़ल

मापनी- २,२,२,२,२,२,२,२, पदांत- किया जाता है , समान्त- आन

“गीतिका- गज़ल”

प्रति दिन दान किया जाता है
मान गुमान किया जाता है
जिंदगी चलती नेक राहों पर
चल अभिमान किया जाता है॥

तिल-तिल बढ़ती है बारिकियाँ
जिस पर शान किया जाता है॥

पपिहा पी पी कर पछताए
कलरव गान किया जाता है॥

परिंदे दूर तलक उड़ जाते
हद पहचान किया जाता है॥

पग पग पर चढ़ आ जाए तो
बैठ थकान किया जाता है॥

गफलत हो जाती है गौतम
खुद का मान किया जाता है॥

महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

115 Views
You may also like:
मेरी राहे तेरी राहों से जुड़ी
Dr. Alpa H.
🌺🌺प्रेम की राह पर-9🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हस्यव्यंग (बुरी नज़र)
N.ksahu0007@writer
मैं हूँ किसान।
Anamika Singh
💐प्रेम की राह पर-25💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बाल वीर हनुमान
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
राह जो तकने लगे हैं by Vinit Singh Shayar
Vinit Singh
लाचार बूढ़ा बाप
The jaswant Lakhara
जीवन-दाता
Prabhudayal Raniwal
मेरे गाँव का अश्वमेध!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
पितु संग बचपन
मनोज कर्ण
घर
पंकज कुमार "कर्ण"
बिखरना
Vikas Sharma'Shivaaya'
रिश्तों की डोर
मनोज कर्ण
।। मेरे तात ।।
Akash Yadav
बस एक निवाला अपने हिस्से का खिला कर तो देखो।
Gouri tiwari
पिता
Buddha Prakash
खींच तान
Saraswati Bajpai
'मेरी यादों में अब तक वे लम्हे बसे'
Rashmi Sanjay
पानी की कहानी, मेरी जुबानी
Anamika Singh
सुंदर सृष्टि है पिता।
Taj Mohammad
जाने क्यों
सूर्यकांत द्विवेदी
बहंगी लचकत जाय
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
पिता अम्बर हैं इस धारा का
Nitu Sah
यादों से दिल बहलाना हुआ
N.ksahu0007@writer
पिता
Rajiv Vishal
सुधारने का वक्त
AMRESH KUMAR VERMA
कौन आएगा
Dhirendra Panchal
माँ
सूर्यकांत द्विवेदी
💐💐प्रेम की राह पर-16💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...