Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Aug 5, 2022 · 1 min read

गीता की महत्ता

गीता का उपदेश दिया ,
कृष्णा ने युद्ध स्थान में |
अर्जुन का उद्धार हुआ
समर क्षेत्र के घेरे में ||

दे सकते थे गीता ज्ञान ,
अन्य काल या क्षेत्र में |
कृष्णा ने फिर क्यों गीता कह दी,
महाभारत संग्राम में ||

हरी नाम को जपते जपते ,
जब विचार मग्न हम बैठेंगे |
गुरु के आश्रय मे ही रहकर ,
गीता ज्ञान को समझेंगे ||

चार पत्नियों के थे पार्थ ,
और विशाल कुटुम्ब साम्राज्य था |
क्या अर्जुन से भी बड़ा ,
कोई और गृहस्थ था ?

ना ही भीष्म , ना गुरु द्रोण,
ना युधिष्ठिर महाराज चुने |
गीता के उपदेश को देने,
वीर धनुर्धर पार्थ चुने ||

हम कलियुग के कलाकार हैं,
गीता से डर जाते हैं |
लपेट के गीता लाल वस्त्र मे ,
बत्ती फूल चढ़ाते हैं ll

ग़लती से गीता खोल भी लें,
तो विरक्ति सी आ जाती है |
समय नही गीता पढ़ने की ,
क्यूकी कर्तव्यों की पेटी बँधी है ||

जब वृधावस्था मे आकर के ,
हम धीमे हो जाएँगे |
तब हम गीता पढ़ लेंगे ,
और भव से भी तर जाएँगे ||

इसी प्रतीक्षा के चक्कर में,
ना जाने कितने जन्म व्यर्थ हुए |
जन्म मृत्यु के चक्कर मे फंसकर ,
परम पिता से दूर हुए ||

इतिहास पलटकर देख तो लो ,
कितनो ने गीता पान किया |
कितनो ने अपने जीवन बदले ,
और आसधारण उत्थान किया ||

जीवन भी एक समर क्षेत्र है ,
छः दोष हमारे शत्रु हैं |
बाहर किनसे युद्ध करे ,
जब घर के बैरी अंदर हैं ||

इस कलियुग के जीवन मे ,
गीता है तलवार समान |
गुरु हमारे मन के सारथी ,
और हृदय में केशव ज्ञान ||

5 Likes · 8 Comments · 65 Views
You may also like:
विश्व फादर्स डे पर शुभकामनाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
धरती कहें पुकार के
Mahender Singh Hans
ये निम खामोशी तुम्हारी ( पूर्व प्रधान मंत्री श्री अटल...
ओनिका सेतिया 'अनु '
उनकी आमद हुई।
Taj Mohammad
//स्वागत है:२०२२//
Prabhudayal Raniwal
ईद की दिली मुबारक बाद
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जीवन के आधार पिता
Kavita Chouhan
The Send-Off Moments
Manisha Manjari
✍️सलीक़ा✍️
'अशांत' शेखर
तू अहम होता।
Taj Mohammad
एक प्यार ऐसा भी /लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
"क़तरा"
Ajit Kumar "Karn"
तिरंगा
Ashwani Kumar Jaiswal
लौट आई जिंदगी बेटी बनकर!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
भोले भंडारी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मदिरा और मैं
Sidhant Sharma
*सारथी बनकर केशव आओ (भक्ति-गीत)*
Ravi Prakash
"शौर्य"
Lohit Tamta
चाँदनी रातें (विधाता छंद)
HindiPoems ByVivek
✍️मै कहाँ थक गया हूँ..✍️
'अशांत' शेखर
अम्मा/मम्मा
Manu Vashistha
औकात में रहिए
Gaurav Dehariya साहित्य गौरव
पिता
Santoshi devi
सारे ही चेहरे कातिल हैं।
Taj Mohammad
बुन रही सपने रसीले / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
प्रिय डाक्टर साहब
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मैं हैरान हूं।
Taj Mohammad
✍️पेड़ की आत्मकथा✍️
'अशांत' शेखर
गन्ना जी ! गन्ना जी !
Buddha Prakash
आद्य पत्रकार हैं नारद जी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...