Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

गाओ दीपक राग कोई ऐंसा

गाओ दीपक राग कोई ऐंसा
जो अंतस दीप जलाए
अंधकार हर ले उर का
नव बिहान ले आए
गाओ मिलकर नया तराना
जो प्रेम प्रीत बरसाए
अमन शांति आए दुनिया में
जन जन नाचे गाए
, सुरेश कुमार चतुर्वेदी

3 Likes · 6 Comments · 149 Views
You may also like:
" ना रही पहले आली हवा "
Dr Meenu Poonia
मंजिल की तलाश
AMRESH KUMAR VERMA
"शौर्यम..दक्षम..युध्धेय, बलिदान परम धर्मा" अर्थात- बहादुरी वह है जो आपको...
Lohit Tamta
गाफिल।
Taj Mohammad
جانے کہاں وہ دن گئے فصل بہار کے
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
तूँ ही गजल तूँ ही नज़्म तूँ ही तराना है...
VINOD KUMAR CHAUHAN
विद्या पर दोहे
Dr. Sunita Singh
पिता जीवन में ऐसा ही होता है।
Taj Mohammad
तीन शर्त"""'
Prabhavari Jha
आस्तीन के साँप
Dr Archana Gupta
ये कैंसी अभिव्यक्ति है, ये कैसी आज़ादी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गर्भस्थ बेटी की पुकार
Dr Meenu Poonia
साजन जाए बसे परदेस
Shivkumar Bilagrami
रावण - विभीषण संवाद (मेरी कल्पना)
Anamika Singh
#अपने तो अपने होते हैं
Seema 'Tu haina'
ए- वृहत् महामारी गरीबी
AMRESH KUMAR VERMA
एक प्रयास अपने लिए भी
Dr fauzia Naseem shad
✍️ये केवल संकलन है,पाठकों के लिये प्रस्तुत
'अशांत' शेखर
✍️एक नन्हे बच्चे इंदर मेघवाल की मौत पर...!
'अशांत' शेखर
रजनी कजरारी
Dr Meenu Poonia
जिंदगी की फरमाइश - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
घनाक्षरी छन्द
शेख़ जाफ़र खान
तू अहम होता।
Taj Mohammad
पहली मुहब्बत थी वो
अभिनव मिश्र अदम्य
लोकसभा की दर्शक-दीर्घा में एक दिन: 8 जुलाई 1977
Ravi Prakash
फिर एक समस्या
डॉ एल के मिश्र
शाश्वत सत्य की कलम से।
Manisha Manjari
इनक मोतियो का
shabina. Naaz
ऐ!मेरी बेटी
लक्ष्मी सिंह
- साहित्य मेरी जान -
bharat gehlot
Loading...