Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#11 Trending Author
May 25, 2022 · 1 min read

गाँव की स्थिति…..

जमाना बदल गया
रहन-सहन बदल गया

आना-जाना, खाना-पीना,
उठाना बैठना सब कुछ बदल गया

पर.. गांव में आज भी हैं वही पुरानी परंपरा
जिसमें न बदलाव आया न कोई लाया

बर्षो पहले था जो रहन-सहन
आज भी वैसे का वैसा नजर आया

रास्ते हैं कच्चे न पानी की कोई सुविधा
न रीती रिवाज में कोई बदलाव लाया

बिन सुविधा चले है जीवन निरंतर यहाँ
विकास के लिए न कोई आगे आया

गरीबाई अभी भी राज करे हैं
करे हैं आतंक ज्यादा….
फिर…भी जी रहे हैं सब यहां
न कोई आशा की उम्मीद लाया..!!!!!

1 Like · 54 Views
You may also like:
ज़िन्दगी की धूप...
Dr. Alpa H. Amin
प्रारब्ध प्रबल है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
आज अपने ही घर से बेघर हो रहे है।
Taj Mohammad
तुम निष्ठुर भूल गये हम को, अब कौन विधा यह...
संजीव शुक्ल 'सचिन'
दिलदार आना बाकी है
Jatashankar Prajapati
Your laugh,Your cry.
Taj Mohammad
जाऊं कहां मैं।
Taj Mohammad
पापा मेरे पापा ॥
सुनीता महेन्द्रू
खींच तान
Saraswati Bajpai
✍️तलाश ज़ारी रखनी चाहिए✍️
"अशांत" शेखर
हमें तुम भुल गए
Anamika Singh
टूटे बहुत है हम
D.k Math
इन्तजार किया करतें हैं
शिव प्रताप लोधी
पिता, इन्टरनेट युग में
Shaily
**दोस्ती हैं अजूबा**
Dr. Alpa H. Amin
फ़ासला
मनोज कर्ण
हे ! धरती गगन केऽ स्वामी...
मनोज कर्ण
લંબાવને 'તું' તારો હાથ 'મારા' હાથમાં...
Dr. Alpa H. Amin
कातिलाना अदा है।
Taj Mohammad
आपके जाने के बाद
pradeep nagarwal
वेवफा प्यार
Anamika Singh
सर रख कर रोए।
Taj Mohammad
💐प्रेम की राह पर-27💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
विवश मनुष्य
AMRESH KUMAR VERMA
बे-इंतिहा मोहब्बत करते हैं तुमसे
VINOD KUMAR CHAUHAN
शब्दों के एहसास गुम से जाते हैं।
Manisha Manjari
ज़िंदगी का हीरो
AMRESH KUMAR VERMA
दुखो की नैया
AMRESH KUMAR VERMA
पृथ्वी दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ज़माने की नज़र से।
Taj Mohammad
Loading...