Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Apr 24, 2022 · 1 min read

विश्व पुस्तक दिवस

साहेब ! बेरोजगार हूँ रोज पढ़ता हूँ
अपने दर्द की दवाई रोज लेता हूँ
देखे बिना चहेरा दिन नही बीतता ,
बेरोजगार हूँ साहेब रोज पढ़ता हूँ ।

नॉकरी की कवायद लगा रखी है यह समाज
रोज झूठ पे झूठ बोले जा रहा हूँ
पगली ! बस रोज तुझे पढ़े जा रहा हूँ ।

कैसे मिलेगा तुझे हम जैसा आशिक ,
रोज दर्द पे दर्द खाये जा रहे हैं ,
ठंडी ,बारिश ,गर्मी और आंधी बस तुझसे प्यार किये जा रहे हैं ,
अब नही सहे जाएगी तेरी जुदाई ,फिर भी बेरोजगार हूँ रोज तुझे पढ़े जा रहा हूँ

मेरे संघर्षों में इतना इठलाती क्यो है ,
मुझे तू इतना तड़पाती क्यो है
कैसे रहेगा यह बेरोजगार तुझसे दूर रह कर ,
रोज पढूंगा तुझे हर खत के खातिर ,
खैर ! बेरोजगार हूँ रोज पढूंगा तुझे ।।

67 Views
You may also like:
✍️सिर्फ दो पल...दो बातें✍️
"अशांत" शेखर
'पिता' संग बांटो बेहद प्यार....
Dr. Alpa H. Amin
समय का सदुपयोग
Anamika Singh
बेटी....
Chandra Prakash Patel
मुस्कुराहट का नाम है जिन्दगी
Anamika Singh
पानी कहे पुकार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
व्याकुल हुआ है तन मन, कोई बुला रहा है।
सत्य कुमार प्रेमी
अब तो इतवार भी
Krishan Singh
पितृ ऋण
Shyam Sundar Subramanian
*!* कच्ची बुनियाद *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
सद्आत्मा शिवाला
Pt. Brajesh Kumar Nayak
# हे राम ...
Chinta netam " मन "
जिन्दगी
Anamika Singh
और मैं .....
AJAY PRASAD
दौर-ए-सफर
DESH RAJ
गर्दिशे जहाँ पा गये।
Taj Mohammad
" इच्छापूर्ति अक्टूबर "
Dr Meenu Poonia
राह जो तकने लगे हैं by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
नोटबंदी ने खुश कर दिया
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
एक ख़्वाब।
Taj Mohammad
मुझसे बचकर वह अब जायेगा कहां
Ram Krishan Rastogi
इश्क है यही।
Taj Mohammad
इश्क़―की―आग
N.ksahu0007@writer
तुम मेरी हो...
Sapna K S
शांति....
Dr. Alpa H. Amin
मां शारदे
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
ग्रीष्म ऋतु भाग ४
Vishnu Prasad 'panchotiya'
आँखें भी बोलती हैं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
तुझे देखा तो...
Dr. Meenakshi Sharma
$दोहे- हरियाली पर
आर.एस. 'प्रीतम'
Loading...