Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 22, 2017 · 2 min read

गाँधी एक रहस्य

“गांधी एक रहस्य”-सौरभ दुबे
आपके देखने और सोचने का नजरिया उन चीजों से जुड़ा हुआ होता है जिनको आप देख रहे होते हो या जैसा कि वो आपको जैसी दिखाई जा रही होती है।इस दशा मैं आपकी हालात ऐसी होती है जैसी की आप एक अंधे व्यक्ति है जिसे अगर कोई हाथी दिखाया जाए तो वो हाथी को स्पर्श करके बताएगा कि हाथी कभी साप के जैसा है या फिर लाठी जैसा ।
यही दशा हमारी उस बक्त होती है जब हम अपने पुराने इतिहास को खंगाल रहे होते है।हमको जो लेखक बताने बाला होता है बस हम बही देखओर सोच पाते है।
महात्मा गांधी,अहिंसा के पुजारी,भारतीय स्वतंत्रता के सूत्रधार, राष्ट्रपिता बापू आदि आदि।बापू के नाम के आगे कितनी भी उपाधिया लगाइये कम है।
परंतु प्रश्न ये उठता है कि क्या बापू के सिवाऔऱ जो बाकी क्रांतिकारी थे क्या उनका प्रयास व्यर्थ था।
महात्मा गांधी जी ने कई प्रमुख आंदोलन ऐसे चलाये जिन्हें उन्होंने परिणाम तक पहुचने से पहले ही वापस लिया ।जैसे कि सविनय अवज्ञा आंदोलन ,असहयोग आंदोलन आदि आदि ।ये आन्दोलन ऐसे थे जिसने अंग्रेजों को हिलाकर रख दिया था।
जब भारतीय जनता का जोश चरम पर होता तभी गांधीजी आंदोलन वापस ले लेते जिसका एक प्रमुख कारण था गांधी जी अहिंसावादी थे और बो हिंसा का बिल्कुल भी सहारा नही लेना चाहते थे ।जिसके फलस्वरूप जब जनता इन आंदोलन के कारण जब उग्र हो जाती और आंदोलन हिंसात्मक हो जाता उस से पहले ही गांधीजी आंदोलन वापस ले लेते थे।
चलिये ये तो प्रमाणित हुआ कि गांधी जी अति अहिंसात्मक मानव थे,पर फिर भी उन्होंने प्रथम विश्व युद्ध के समय भारतीय युवाओं को सेना में भर्ती होने के लिए क्यो प्रेरित किया।क्या वो युवाओ को हिंसा की तरफ नही दखेल रहे थे।

206 Views
You may also like:
बेचारी ये जनता
शेख़ जाफ़र खान
पल
sangeeta beniwal
बरसात आई झूम के...
Buddha Prakash
#पूज्य पिता जी
आर.एस. 'प्रीतम'
संविदा की नौकरी का दर्द
आकाश महेशपुरी
वो बरगद का पेड़
Shiwanshu Upadhyay
जीवन-रथ के सारथि_पिता
मनोज कर्ण
पाँव में छाले पड़े हैं....
डॉ.सीमा अग्रवाल
दर्द इतने बुरे नहीं होते
Dr fauzia Naseem shad
इंतजार
Anamika Singh
आज तन्हा है हर कोई
Anamika Singh
पेशकश पर
Dr fauzia Naseem shad
आज अपना सुधार लो
Anamika Singh
ओ मेरे साथी ! देखो
Anamika Singh
पिता है भावनाओं का समंदर।
Taj Mohammad
कोई हमदर्द हो गरीबी का
Dr fauzia Naseem shad
गंगा दशहरा
श्री रमण 'श्रीपद्'
मेरी अभिलाषा
Anamika Singh
भोर का नवगीत / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️ईश्वर का साथ ✍️
Vaishnavi Gupta
जागो राजू, जागो...
मनोज कर्ण
पापा आपकी बहुत याद आती है !
Kuldeep mishra (KD)
क्या मेरी कलाई सूनी रहेगी ?
Kumar Anu Ojha
राखी-बंँधवाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
मेरी उम्मीद
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
।। मेरे तात ।।
Akash Yadav
इंसानियत का एहसास भी
Dr fauzia Naseem shad
जो आया है इस जग में वह जाएगा।
Anamika Singh
छोड़ दो बांटना
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
समय ।
Kanchan sarda Malu
Loading...