Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

ग़म की ऐसी रवानी….

ग़म की ऐसी रवानी लगे है कोई,
पानी पर लिखता पानी लगे है कोई,
हर वरक”अश्क”से जिसका हो धुल गया –
वो अधूरी कहानी लगे है कोई।।

© अशोक कुमार ” अश्क चिरैयाकोटी “

1 Like · 205 Views
You may also like:
हाइकु_रिश्ते
Manu Vashistha
आदतें
AMRESH KUMAR VERMA
कभी सोचा ना था मैंने मोहब्बत में ये मंजर भी...
Krishan Singh
भारतवर्ष स्वराष्ट्र पूर्ण भूमंडल का उजियारा है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कबीर के राम
Shekhar Chandra Mitra
पुस्तकों की पीड़ा
Rakesh Pathak Kathara
हाँ, अब मैं ऐसा ही हूँ
gurudeenverma198
पिता
Aruna Dogra Sharma
घुसमट
"अशांत" शेखर
रिमोट :: वोट
DESH RAJ
तो क्या होगा?
Shekhar Chandra Mitra
मेरे पिता
Ram Krishan Rastogi
'हाथी ' बच्चों का साथी
Buddha Prakash
अपने पापा की मैं हूं।
Taj Mohammad
मां
Umender kumar
ऐ जिन्दगी
Anamika Singh
"पिता का जीवन"
पंकज कुमार "कर्ण"
वेदना
Archana Shukla "Abhidha"
मिसाल (कविता)
Kanchan Khanna
फूल
Alok Saxena
🌺🌺प्रेम की राह पर-9🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
# जज्बे सलाम ...
Chinta netam " मन "
एक नज़म [ बेकायदा ]
DR ARUN KUMAR SHASTRI
रूखा रे ! यह झाड़ / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ऐ ...तो जिंदगी हैंं...!!!!
Dr. Alpa H. Amin
मैं हैरान हूं।
Taj Mohammad
मुकरिया__ चाय आसाम वाली
Manu Vashistha
पर्यावरण पच्चीसी
मधुसूदन गौतम
सोंच समझ....
Dr. Alpa H. Amin
✍️किसान के बैल की संवेदना✍️
"अशांत" शेखर
Loading...