Sep 20, 2016 · 1 min read

ग़मों की दुनियाा तलाश लोगे बुरा करोगे

ग़मों की दुनिया तलाश लोगे बुरा करोगे
सभी से ख़ुद को जुदा करोगे बुरा करोगे

बुरा करोगे जो चुप रहोगे ..दुखों पे अपने
किसी से मेरे सिवा कहोगे….. बुरा करोगे

ग़ज़ब करोगे मसल के फूलों को ऐडियों से
कि खुश्बुओं से………… गिला करोगे बुरा

गुरूब होने की ठान ली है जो दिल में तुमने
तुलूअ होने से भी ………..डरोगे बुरा करोगे

अगर मिलोगे किसी से सालिब सिवा हमारे
यक़ीन जानो बुरा करोगे ……….बुरा करोगे

125 Views
You may also like:
वो काली रात...!
मनोज कर्ण
शिव शम्भु
Anamika Singh
एक पनिहारिन की वेदना
Ram Krishan Rastogi
श्रीयुत अटलबिहारी जी
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पिता
Neha Sharma
"ज़ुबान हिल न पाई"
अमित मिश्र
महाभारत की नींव
ओनिका सेतिया 'अनु '
वह खूब रोए।
Taj Mohammad
एक नज़म [ बेकायदा ]
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ख़ूब समझते हैं ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit Singh
दर्द।
Taj Mohammad
ग़ज़ल
kamal purohit
माँ
आकाश महेशपुरी
हवस
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
पिता का पता
श्री रमण
अफसोस-कर्मण्य
Shyam Pandey
फीका त्यौहार
पाण्डेय चिदानन्द
चिट्ठी का जमाना और अध्यापक
Mahender Singh Hans
हर सिम्त यहाँ...
अश्क चिरैयाकोटी
तुम जिंदगी जीते हो।
Taj Mohammad
नित हारती सरलता है।
Saraswati Bajpai
तपिश
SEEMA SHARMA
नन्हा बीज
मनोज कर्ण
गाँव कुछ बीमार सा अब लग रहा है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
घातक शत्रु
AMRESH KUMAR VERMA
क्या कहते हो हमसे।
Taj Mohammad
🌺🌺Kill your sorrows with your willpower🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
रफ़्तार के लिए (ghazal by Vinit Singh Shayar)
Vinit Singh
पितृ महिमा
मनोज कर्ण
विश्व हास्य दिवस
Dr Archana Gupta
Loading...