Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

ग़ज़ल

ख़ूब़सूरत ग़ुनाह हो जाए।
दिल ये उन पै तब़ाह हो जाए।
फ़लसफ़े छोड़ दो अरे वाइज़,
द़ीद की जो पनाह़ हो जाए ।
मेरा तेरे सिवा नहीं कोई ,
इसका तू ही ग़वाह हो जाए ।
आह से आह तक मिले जो तू,
आह भरने की आह हो जाए ।
काफ़िये खिल उठें रदीफ़ों से,
नज्म़ की वाह-वाह हो जाए ।
मक्त़े के श़ेर की ज़रूरत क्या है,
नज्म़ ही जो निग़ाह हो जाए ।

6 Comments · 1078 Views
You may also like:
#पूज्य पिता जी
आर.एस. 'प्रीतम'
*पार्क में योग (कहानी)*
Ravi Prakash
【31】{~} बच्चों का वरदान निंदिया {~}
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
मां की महानता
Satpallm1978 Chauhan
मौन में गूंजते शब्द
Manisha Manjari
हे कुंठे ! तू न गई कभी मन से...
ओनिका सेतिया 'अनु '
परिणय
मनोज कर्ण
संघर्ष
Anamika Singh
फिर कभी तुम्हें मैं चाहकर देखूंगा.............
Nasib Sabharwal
बुरा तो ना मानोगी।
Taj Mohammad
हायकु
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
बाबा साहेब जन्मोत्सव
Mahender Singh Hans
"भोर"
Ajit Kumar "Karn"
Waqt
ananya rai parashar
गरीब की बारिश
AMRESH KUMAR VERMA
खूबसूरत एहसास.......
Dr. Alpa H. Amin
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
दिल है कि मानता ही नहीं
gurudeenverma198
चलना ही पड़ेगा
Mahendra Narayan
ढह गया …
Rekha Drolia
नारी को सदा राखिए संग
Ram Krishan Rastogi
श्री अग्रसेन भागवत ः पुस्तक समीक्षा
Ravi Prakash
पिता
Mamta Rani
दूल्हे अब बिकते हैं (एक व्यंग्य)
Ram Krishan Rastogi
सब खुदा हो गये
"अशांत" शेखर
जुल्म
AMRESH KUMAR VERMA
आम ही आम है !
हरीश सुवासिया
सुनो ! हे राम ! मैं तुम्हारा परित्याग करती हूँ...
ओनिका सेतिया 'अनु '
तोड़कर मुझे न देख
अरशद रसूल /Arshad Rasool
उतरते जेठ की तपन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...