Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Nov 8, 2016 · 1 min read

ग़ज़ल

रोशनी देते हैं पुरखों के हवाले आज भी ।
ताक़ पर पुरनूर हैं उनके रिसाले आज भी ।।

आस्था के दीप जलते हैं हमारे ज़ेह्न में ।
दौरे ग़र्दिश में सुकूं बनते शिवाले आज भी ।।

आज तक ख़्वाबों में आ कर मां दुआ देती मुझे ।
सरफिरे तूफ़ान से मुझको बचा ले आज भी ।।

जिस्म को दो ग़ज ज़मीं में दफ़्न कर डाला मगर ।
घर को खुशबू दे रहे हैं ये दुशाले आज भी ।।

शेर के मानिन्द मेरा दर्द इक तस्वीर सा ।
आप के एहसास को अश्कों में ढाले आज भी ।।

हम ठहर जाते हैं अक्सर देख कर कोई हुजूम ।
हाथ शायद बढ़ के कोई तो सम्हाले आज भी ।।

तर्क़े उल्फ़त का बहाना ढूंढ़ता था कल भी वो ।
उसके लफ़्ज़ों में “नज़र” मकड़ी के जाले आज भी ।।

ताक़ = दीवार में बनी छोटी आलमारी
पुरनूर = प्रकाशवान
तर्क़े उलफ़त = मोहब्बत का परित्याग

159 Views
You may also like:
काश मेरा बचपन फिर आता
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
बिछड़ कर किसने
Dr fauzia Naseem shad
रबीन्द्रनाथ टैगोर पर तीन मुक्तक
Anamika Singh
मोहब्बत की दर्द- ए- दास्ताँ
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
कुछ लोग यूँ ही बदनाम नहीं होते...
मनोज कर्ण
मैं कुछ कहना चाहता हूं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️इंतज़ार✍️
Vaishnavi Gupta
तुम हमें तन्हा कर गए
Anamika Singh
✍️आज के युवा ✍️
Vaishnavi Gupta
"पिता का जीवन"
पंकज कुमार कर्ण
सपना आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
✍️कैसे मान लुँ ✍️
Vaishnavi Gupta
मेरी भोली ''माँ''
पाण्डेय चिदानन्द
Green Trees
Buddha Prakash
मुझे तुम भूल सकते हो
Dr fauzia Naseem shad
कोई मंझधार में पड़ा हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
अनमोल जीवन
आकाश महेशपुरी
मर्द को भी दर्द होता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
उसे देख खिल जातीं कलियांँ
श्री रमण 'श्रीपद्'
दर्द इतने बुरे नहीं होते
Dr fauzia Naseem shad
पैसा बना दे मुझको
Shivkumar Bilagrami
बाबा साहेब जन्मोत्सव
Mahender Singh Hans
आनंद अपरम्पार मिला
श्री रमण 'श्रीपद्'
जाने कैसा दिन लेकर यह आया है परिवर्तन
आकाश महेशपुरी
✍️काश की ऐसा हो पाता ✍️
Vaishnavi Gupta
रुक-रुक बरस रहे मतवारे / (सावन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आई राखी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
न जाने क्यों
Dr fauzia Naseem shad
✍️पढ़ रही हूं ✍️
Vaishnavi Gupta
वाक्य से पोथी पढ़
शेख़ जाफ़र खान
Loading...