Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Feb 2023 · 1 min read

ग़ज़ल

लहरते पानी में जैसे हबाब टाँक दिये
हमारी आँखों में किसने ये ख़्वाब टाँक दिये

मिला न फूल तो अपने गुलाबी होंठों से
हमारे कोट पे उसने गुलाब टाँक दिये

हमारी ज़िस्त में औराक़े इश्क़ थे ही नहीं
कि इस किताब में किसने ये बाब टाँक दिये

हर एक शय की ज़रूरत को देख कर उसने
कहीं पे चाँद कहीं आफ़ताब टाँक दिये

हमारी राह में काँटे बिखेरे हैं जिसने
उसी की ज़ुल्फ में हमने गुलाब टाँक दिये

दिवाना राँझणा मजनूँ न जाने और क्या क्या
हमारे नाम से कितने ख़िताब टाँक दिये

तुम्हारी ज़िन्दगी में ‘नूर’ वो ही बख़्शेगा
कि जिसने तीरगी में माहताब टाँक दिये

✍️ जितेन्द्र कुमार ‘नूर’
असिस्टेंट प्रोफेसर
डी ए वी पी जी कॉलेज आज़मगढ़

1 Like · 94 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
💐प्रेम कौतुक-189💐
💐प्रेम कौतुक-189💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तुम भोर हो!
तुम भोर हो!
Ranjana Verma
चलिए खूब कमाइए, जिनके बच्चे एक ( कुंडलिया )
चलिए खूब कमाइए, जिनके बच्चे एक ( कुंडलिया )
Ravi Prakash
मुझे प्रीत है वतन से,
मुझे प्रीत है वतन से,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
■ जीवन दर्शन...
■ जीवन दर्शन...
*Author प्रणय प्रभात*
चाहत
चाहत
Shyam Sundar Subramanian
2330.पूर्णिका
2330.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
हुआ पिया का आगमन
हुआ पिया का आगमन
लक्ष्मी सिंह
किसी को दिल में बसाना बुरा तो नहीं
किसी को दिल में बसाना बुरा तो नहीं
Ram Krishan Rastogi
कविता
कविता
Shyam Pandey
दुनिया में लोग अब कुछ अच्छा नहीं करते
दुनिया में लोग अब कुछ अच्छा नहीं करते
shabina. Naaz
बहुत वो साफ सुधरी ड्रेस में स्कूल आती थी।
बहुत वो साफ सुधरी ड्रेस में स्कूल आती थी।
विजय कुमार नामदेव
हिडनवर्ग प्रपंच
हिडनवर्ग प्रपंच
मनोज कर्ण
"सुस्त होती जिंदगी"
Dr Meenu Poonia
"चाह"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
तुम मुझे बना लो
तुम मुझे बना लो
श्याम सिंह बिष्ट
छत्रपति शिवाजी महाराज की समुद्री लड़ाई
छत्रपति शिवाजी महाराज की समुद्री लड़ाई
Pravesh Shinde
जन्मदिन तुम्हारा!
जन्मदिन तुम्हारा!
bhandari lokesh
यह आखिरी खत है हमारा
यह आखिरी खत है हमारा
gurudeenverma198
The Moon!
The Moon!
Buddha Prakash
रस्म ए उल्फत भी बार -बार शिद्दत से
रस्म ए उल्फत भी बार -बार शिद्दत से
AmanTv Editor In Chief
अपनों की ठांव .....
अपनों की ठांव .....
Awadhesh Kumar Singh
मां बाप के प्यार जैसा  कहीं कुछ और नहीं,
मां बाप के प्यार जैसा कहीं कुछ और नहीं,
Satish Srijan
अपनी समस्या का
अपनी समस्या का
Dr fauzia Naseem shad
तू मुझे क्या समझेगा
तू मुझे क्या समझेगा
Arti Bhadauria
सच्चाई की कीमत
सच्चाई की कीमत
डॉ प्रवीण ठाकुर
चुलियाला छंद ( चूड़मणि छंद ) और विधाएँ
चुलियाला छंद ( चूड़मणि छंद ) और विधाएँ
Subhash Singhai
अगर उठ गए ये कदम तो चलना भी जरुरी है
अगर उठ गए ये कदम तो चलना भी जरुरी है
'अशांत' शेखर
दिया एक जलाए
दिया एक जलाए
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सूरज बनो तुम
सूरज बनो तुम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...