Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 12, 2022 · 1 min read

ग़ज़ल –

आँखों का भी मौसम रोज बदलता है
देख ज़माना इक दूजे को चलता है

बंजर कही, कहीं हरियाली होती है
मन का बादल जैसे जहाँ पिघलता है

लोग आईना एक दूजे के होते हैं
सच जो देखे आगे वहीं निकलता है

ख़ुद की क़ीमत जो पहचाने इंसा वो
कंचन के साँचे में इक दिन ढ़लता है

वहीं अंधेरा दूर करे इस दुनिया का
बिना स्वार्थ जो दीपक जैसा जलता है

भाँति -भाँति के पेड़ बाग में होते हैं
मगर वही भाता है जो कि फलता है

कभी नही सुख पाता है वो जीवन में
जो अपनों को महज़ झूठ से छलता है

1 Like · 97 Views
You may also like:
लहजा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मेरी खुशी तुमसे है
VINOD KUMAR CHAUHAN
✍️सुलूक✍️
'अशांत' शेखर
मोहब्बत
Kanchan sarda Malu
पाकीज़ा इश्क़
VINOD KUMAR CHAUHAN
पिता की याद
Meenakshi Nagar
दुनिया जवाब पूछेगी
Swami Ganganiya
पितृ नभो: भव:।
Taj Mohammad
दिल के रिश्ते
Dr fauzia Naseem shad
बुरी आदत
AMRESH KUMAR VERMA
वृक्ष बोल उठे..!
Prabhudayal Raniwal
कभी - कभी .........
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
"সালগিরহ"
DrLakshman Jha Parimal
छद्म राष्ट्रवाद की पहचान
Mahender Singh Hans
लो अब निषादराज का भी रामलोक गमन
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पत्नियों की फरमाइशें (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
प्रश्न चिन्ह
Shyam Sundar Subramanian
पिता
dks.lhp
राष्ट्रवाद का रंग
मनोज कर्ण
प्यार अंधा होता है
Anamika Singh
हे शिव ! सृष्टि भरो शिवता से
Saraswati Bajpai
स्कूल का पहला दिन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मन का पाखी…
Rekha Drolia
गजलकार रघुनंदन किशोर "शौक" साहब का स्मरण
Ravi Prakash
अरदास
Vikas Sharma'Shivaaya'
टिप्पणियों ( कमेंट्स) का फैशन या शोर
ओनिका सेतिया 'अनु '
सुहावना मौसम
AMRESH KUMAR VERMA
साधु न भूखा जाय
श्री रमण 'श्रीपद्'
गीत ग़ज़लें सदा गुनगुनाते रहो।
सत्य कुमार प्रेमी
सदा बढता है,वह 'नायक', अमल बन ताज ठुकराता|
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Loading...