Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 7, 2022 · 1 min read

ग़ज़ल

आना जाना सब का चलता रहता है
मंजिल से पथ सदा यही तो कहता है

सबका मन၊ तिनके के जैसे होता है
हवा जिधर की होती उधर ही बहता है

एक दूजे से रीत यही व्यवहार की
जितना देता दर्द वो उतना सहता है

इच्छाओं का सागर सभी में होता है
सब कुछ मिलता नहीं जो जैसा चहता है

महज़ अन्धेरे को कोसा मत कीजिए
वहीं रोशनी करता है जो दहता है

2 Likes · 1 Comment · 80 Views
You may also like:
✍️मैं अपनी रूह के अंदर गया✍️
'अशांत' शेखर
- मेरा प्रेम कागज,कलम व पुस्तक -
bharat gehlot
इसी से सद्आत्मिक -आनंदमय आकर्ष हूँ
Pt. Brajesh Kumar Nayak
खफा है जिन्दगी
Anamika Singh
कभी-कभी आते जीवन में...
डॉ.सीमा अग्रवाल
मन की बात
Rashmi Sanjay
*यात्रा (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
क्या करे
shabina. Naaz
कविता में मुहावरे
Ram Krishan Rastogi
दिल तुम्हें
Dr fauzia Naseem shad
चाय की चुस्की
Buddha Prakash
ईद के बहाने ही सही।
Taj Mohammad
*जिनको डायबिटीज (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
राई का पहाड़
Sangeeta Darak maheshwari
✍️कसम खुदा की..!✍️
'अशांत' शेखर
ॐ शिव शंकर भोले नाथ र
Swami Ganganiya
तेरा रूतबा है बड़ा।
Taj Mohammad
भक्तिरेव गरीयसी
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पिता श्रेष्ठ है इस दुनियां में जीवन देने वाला है
सतीश मिश्र "अचूक"
'आप नहीं आएंगे अब पापा'
alkaagarwal.ag
गर्मी का रेखा-गणित / (समकालीन नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आज की पत्रकारिता
Anamika Singh
गौरैया बोली मुझे बचाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
क्या मुझे हिफ़्ज़
Dr fauzia Naseem shad
इंतजार
Anamika Singh
पानी बरसे मेघ से
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
मेरी तडपन अब और न बढ़ाओ
Ram Krishan Rastogi
💐साधकस्य निष्ठा एव कल्याणकर्त्री💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
यह दुनियाँ
Anamika Singh
" मीनू की परछाई रानू "
Dr Meenu Poonia
Loading...