Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

ग़ज़ल

*ग़ज़ल- समुंदर देखता हूं*

उसी को सबके अंदर देखता हूं।
मैं क़तरे में समुंदर देखता हूं।।

मंदिर-मस्ज़िद हो, वो एक ही तो है।
मैं उन्हें शामों सहर देखता हूं।।

हमें ये मुल्ला पंड़ित बांटते है।
आड़ में ही धर्म पर क़हर देखता हूं।।

यहां पे भी चैंनों सुकूं अब मिले ना।
गांवों को बनते शहर देखता हूं।।

जो पहले थीं वो अब शराफ़त नहीं है।
मैं काले मुंह का बंदर देखता हूं।।

“राना” ये ज़ुल्मों सितम देखकर।
दिल में ही उठती लहर देखता हूं।।
***
*© राजीव नामदेव “राना लिधौरी”*
संपादक-“आकांक्षा” हिंदी पत्रिका
संपादक- ‘अनुश्रुति’ बुंदेली पत्रिका
जिलाध्यक्ष म.प्र. लेखक संघ टीकमगढ़
अध्यक्ष वनमाली सृजन केन्द्र टीकमगढ़
नई चर्च के पीछे, शिवनगर कालोनी,
टीकमगढ़ (मप्र)-472001
मोबाइल- 9893520965
Email – ranalidhori@gmail.com
Blog-rajeevranalidhori.blogspot.com

84 Views
You may also like:
कुण्डलिया
Dr. Sunita Singh
दोहावली...(११)
डॉ.सीमा अग्रवाल
"हम्प्टी शर्मा की दुल्हनिया" के "अंगद" यानि सिद्धार्थ नहीं रहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"अंतिम-सत्य..!"
Prabhudayal Raniwal
दिल धड़कना
Dr fauzia Naseem shad
वोह जब जाती है .
ओनिका सेतिया 'अनु '
अल्फाज़ ए ताज भाग-6
Taj Mohammad
इंसा का रोना भी जरूरी होता है।
Taj Mohammad
अपने और जख्म
Anamika Singh
जावेद कक्षा छः का छात्र कला के बल पर कई...
Shankar J aanjna
प्रश्न चिन्ह
Shyam Sundar Subramanian
काव्य संग्रह
AJAY PRASAD
“ अच्छा लगे तो स्वीकार करो ,बुरा लगे तो नज़र...
DrLakshman Jha Parimal
बदल जायेगा
शेख़ जाफ़र खान
उम्रें गुज़र गई हैं।
Taj Mohammad
सही दिशा में
Ratan Kirtaniya
कल खो जाएंगे हम
AMRESH KUMAR VERMA
विद्या पर दोहे
Dr. Sunita Singh
*श्री विष्णु प्रभाकर जी के कर - कमलों द्वारा मेरी...
Ravi Prakash
मिथ्या मार्ग का फल
AMRESH KUMAR VERMA
बेजुबान
Dhirendra Panchal
एक शख्स सारे शहर को वीरान कर जाता हैं
Krishan Singh
हिंदी दोहे बिषय-मंत्र
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
लोग कहते हैं कैसा आदमी हूं।
सत्य कुमार प्रेमी
विश्वास और शक
Dr Meenu Poonia
दर्द होता है
Dr fauzia Naseem shad
* फितरत *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
नवजात बहू (लघुकथा)
दुष्यन्त 'बाबा'
वक्त।
Taj Mohammad
जो देखें उसमें
Dr.sima
Loading...