Apr 17, 2022 · 1 min read

ग़ज़ल

आज ग़ज़ल से बात हुई अनजाने में ।
गाने लगा हूँ उसको मैं अफसाने में ।

अपने ग़म की ओढ़ काफिया रहती है।
और रदीफ़ लगा है खुशी निभाने में ।

रोग सियासत का पाला है यूँ उसने ।
सबको ठाना है वो आज गिराने में ।

चोट करे ज़ज़्बातों पे वो महफ़िल में ।
जब मुसकाये देख मुझे वो गाने में ।

भूख बढ़ाती हैं बातें अक्सर उसकी ।
महज़ गरीबी ज़ुबां से लगा मिटाने में I

2 Likes · 22 Views
You may also like:
मजदूर_दिवस_पर_विशेष
संजीव शुक्ल 'सचिन'
साँप की हँसी होती कैसी
AJAY AMITABH SUMAN
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है। [भाग ७]
Anamika Singh
यही तो मेरा वहम है
Krishan Singh
सम्भव कैसे मेल सखी...?
पंकज परिंदा
आ लौट के आजा घनश्याम
Ram Krishan Rastogi
अनमोल घड़ी
Prabhudayal Raniwal
खाली पैमाना
ओनिका सेतिया 'अनु '
पिता
Keshi Gupta
इंसाफ हो गया है।
Taj Mohammad
ग्रीष्म ऋतु भाग ४
Vishnu Prasad 'panchotiya'
मैं तो सड़क हूँ,...
मनोज कर्ण
ग्रीष्म ऋतु भाग ५
Vishnu Prasad 'panchotiya'
हमको आजमानें की।
Taj Mohammad
** शरारत **
Dr. Alpa H.
जमीं से आसमान तक।
Taj Mohammad
मुक्तक- उनकी बदौलत ही...
आकाश महेशपुरी
सोए है जो कब्रों में।
Taj Mohammad
पिता
कुमार अविनाश केसर
कवि का परिचय( पं बृजेश कुमार नायक का परिचय)
Pt. Brajesh Kumar Nayak
सुख दुख
Rakesh Pathak Kathara
पिता
Dr.Priya Soni Khare
अधजल गगरी छलकत जाए
Vishnu Prasad 'panchotiya'
पिता ईश्वर का दूसरा रूप है।
Taj Mohammad
पुस्तक समीक्षा-"तारीखों के बीच" लेखक-'मनु स्वामी'
Rashmi Sanjay
गँवईयत अच्छी लगी
सिद्धार्थ गोरखपुरी
माँ तेरी जैसी कोई नही।
Anamika Singh
विसाले यार ना मिलता है।
Taj Mohammad
साधु न भूखा जाय
श्री रमण
हम एक है
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
Loading...