Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jan 22, 2017 · 1 min read

ग़ज़ल

ग़ज़ल

जिस्म क्या है रूह तक सब खुलासा देखियें।
आज के बालक बालिकाओं की भाषा देंखियें।

बदलतें मूल्यो संस्कारो से बिगड़ते बालक।
बदल गयें सब परिवेश;परिभाषा देंखियें।

माहौल नामाकूल उड़ रही बेंशर्मी की धूल।
बेकाबू सें हालात और हताशा देंखियें।

लाजशर्म को त्यागकर कुछ तो घर से भागकर।
डीजे बजते गली-गली नाचती सी उनपे रकासा देंखियें।

सुधा भारद्वाज
विकासनगर उत्तराखण्ड

126 Views
You may also like:
पापा आपकी बहुत याद आती है !
Kuldeep mishra (KD)
ए- वृहत् महामारी गरीबी
AMRESH KUMAR VERMA
माँ
अश्क चिरैयाकोटी
बुद्ध भगवान की शिक्षाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️पुरानी रसोई✍️
"अशांत" शेखर
ये शिक्षामित्र है भाई कि इसमें जान थोड़ी है
आकाश महेशपुरी
अरविंद सवैया छन्द।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
जी हाँ, मैं
gurudeenverma198
यदि मेरी पीड़ा पढ़ पाती
Saraswati Bajpai
बरगद का पेड़
Manu Vashistha
✍️ मसला क्यूँ है ?✍️
"अशांत" शेखर
अजी मोहब्बत है।
Taj Mohammad
प्रतीक्षा करना पड़ता।
Vijaykumar Gundal
✍️कधी कधी✍️
"अशांत" शेखर
बस एक ही भूख
DESH RAJ
याद पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
मत बना किसी को अपनी कमजोरी
Krishan Singh
आपकी याद
Abhishek Upadhyay
✍️स्त्री : दोन बाजु✍️
"अशांत" शेखर
डिजिटल इंडिया
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नदी का किनारा
Ashwani Kumar Jaiswal
✍️आओ गुल गुलज़ार वतन करे✍️
"अशांत" शेखर
हो रही है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मानवता
Dr.sima
बनकर कोयल काग
Jatashankar Prajapati
वर्तमान
Vikas Sharma'Shivaaya'
दुविधा
Shyam Sundar Subramanian
मैं परछाइयों की भी कद्र करता हूं
VINOD KUMAR CHAUHAN
चौपाई छंद में सौलह मात्राओं का सही गठन
Subhash Singhai
सास और बहु
Vikas Sharma'Shivaaya'
Loading...