Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Oct 27, 2016 · 1 min read

ग़ज़ल रचनाएँ

अकेले राह में तन्हाइ को ही साथ ले लेगें,,,
मुहब्बत ना सही रुसवाइ को ही साथ ले लेगें।।।
हमे सुनसान रातो मे बहुत ही डर सताता है,,,,
करे क्या अब उसी हरज़ाइ को ही साथ ले लेगें।।।।
नही आता हमारे साथ कोई क्या करेगें हम,,,,
बहुत मजबूर है परछाइ को ही साथ ले लेगें।।।।।

117 Views
You may also like:
बुआ आई
राजेश 'ललित'
Green Trees
Buddha Prakash
ये कैसा धर्मयुद्ध है केशव (युधिष्ठर संताप )
VINOD KUMAR CHAUHAN
ठोकर खाया हूँ
Anamika Singh
बुढ़ापे में अभी भी मजे लेता हूं
Ram Krishan Rastogi
गंगा दशहरा
श्री रमण 'श्रीपद्'
हर घर तिरंगा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सही गलत का
Dr fauzia Naseem shad
हर एक रिश्ता निभाता पिता है –गीतिका
रकमिश सुल्तानपुरी
जिम्मेदारी और पिता
Dr. Kishan Karigar
राम घोष गूंजें नभ में
शेख़ जाफ़र खान
"विहग"
Ajit Kumar "Karn"
कुछ नहीं
Dr fauzia Naseem shad
नदी बन जा तू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ख़्वाब पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
बरसात की छतरी
Buddha Prakash
जीवन की प्रक्रिया में
Dr fauzia Naseem shad
" मां" बच्चों की भाग्य विधाता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
✍️One liner quotes✍️
Vaishnavi Gupta
"याद आओगे"
Ajit Kumar "Karn"
पिता जी का आशीर्वाद है !
Kuldeep mishra (KD)
*जय हिंदी* ⭐⭐⭐
पंकज कुमार कर्ण
तू कहता क्यों नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
चलो दूर चलें
VINOD KUMAR CHAUHAN
सपनों में खोए अपने
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ज़िंदगी में न ज़िंदगी देखी
Dr fauzia Naseem shad
पापा क्यूँ कर दिया पराया??
Sweety Singhal
मजबूर ! मजदूर
शेख़ जाफ़र खान
झूला सजा दो
Buddha Prakash
दर्द ख़ामोशियां
Dr fauzia Naseem shad
Loading...