Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

ग़ज़ल (दोस्त अपने आज सब क्यों बेगाने लगतें हैं)

जब अपने चेहरे से नकाब हम हटाने लगतें हैं
अपने चेहरे को देखकर डर जाने लगते हैं

वह हर बात को मेरी क्यों दबाने लगते हैं
जब हकीकत हम उनको समझाने लगते हैं

जिस गलती पर हमको वह समझाने लगते है
वही गलती को फिर वह दोहराने लगते हैं

आज दर्द खिंच कर मेरे पास आने लगतें हैं
शायद दर्द से मेरे रिश्ते पुराने लगतें हैं

दोस्त अपने आज सब क्यों बेगाने लगतें हैं
मदन दुश्मन आज सारे जाने पहचाने लगते हैं

ग़ज़ल (दोस्त अपने आज सब क्यों बेगाने लगतें हैं)
मदन मोहन सक्सेना

180 Views
You may also like:
नदी की अभिलाषा / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कोई खामोशियां नहीं सुनता
Dr fauzia Naseem shad
पापा करते हो प्यार इतना ।
Buddha Prakash
✍️बारिश का मज़ा ✍️
Vaishnavi Gupta
रूठ गई हैं बरखा रानी
Dr Archana Gupta
इस तरह
Dr fauzia Naseem shad
बेटी का पत्र माँ के नाम
Anamika Singh
पहनते है चरण पादुकाएं ।
Buddha Prakash
ऐ ज़िन्दगी तुझे
Dr fauzia Naseem shad
शरद ऋतु ( प्रकृति चित्रण)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
ठनक रहे माथे गर्मीले / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
फ़ायदा कुछ नहीं वज़ाहत का ।
Dr fauzia Naseem shad
आजादी अभी नहीं पूरी / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
उसे देख खिल जातीं कलियांँ
श्री रमण 'श्रीपद्'
जैवविविधता नहीं मिटाओ, बन्धु अब तो होश में आओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जाने क्या-क्या ? / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बुन रही सपने रसीले / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कशमकश
Anamika Singh
पिता
Santoshi devi
रहे इहाँ जब छोटकी रेल
आकाश महेशपुरी
जिस नारी ने जन्म दिया
VINOD KUMAR CHAUHAN
ग़ज़ल / (हिन्दी)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️इतने महान नही ✍️
Vaishnavi Gupta
.....उनके लिए मैं कितना लिखूं?
ऋचा त्रिपाठी
सपना आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
अधर मौन थे, मौन मुखर था...
डॉ.सीमा अग्रवाल
मर्यादा का चीर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कभी ज़मीन कभी आसमान.....
अश्क चिरैयाकोटी
अधुरा सपना
Anamika Singh
यादों की बारिश का कोई
Dr fauzia Naseem shad
Loading...