Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jul 2016 · 1 min read

ग़ज़ल ( खुदा का रूप )

ग़ज़ल ( खुदा का रूप )

गर कोई हमसे कहे की रूप कैसा है खुदा का
हम यकीकन ये कहेंगे जिस तरह से यार है

संग गुजरे कुछ लम्हों की हो नहीं सकती है कीमत
गर तनहा होकर जीए तो बर्ष सौ बेकार हैं

सोचते है जब कभी हम क्या मिला क्या खो गया
दिल जिगर साँसें है अपनी पर न कुछ अधिकार है

याद कर सूरत सलोनी खुश हुआ करते हैं हम
प्यार से बह दर्द दे दें तो हमें स्वीकार है

जिस जगह पर पग धरा है उस जगह खुशबु मिली है
नाम लेने से ही अपनी जिंदगी गुलजार है

ये ख्बाहिश अपने दिल की है की कुछ नहीं अपना रहे
क्या मदन इसको ही कहते लोग अक्सर प्यार हैं

ग़ज़ल ( खुदा का रूप )
मदन मोहन सक्सेना

148 Views
You may also like:
💐प्रेम की राह पर-34💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
" कुरीतियों का दहन ही विजयादशमी की सार्थकता "
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
*हो जिससे भेंट जीवन में, हमारा मित्र बन जाए (हिंदी...
Ravi Prakash
🥗फीका 💦 त्यौहार💥 (नाट्य रूपांतरण)
पाण्डेय चिदानन्द
आ जाओ राम।
Anamika Singh
तितलियाँ
RAJA KUMAR 'CHOURASIA'
भूल
Seema 'Tu hai na'
श्वान
लक्ष्मी सिंह
कहानी *"ममता"* पार्ट-2 लेखक: राधाकिसन मूंधड़ा, सूरत।
radhakishan Mundhra
सुनता नहीं कोई
Dr fauzia Naseem shad
कितने मादक ये जलधर हैं
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
बेचैन कागज
Dr Meenu Poonia
✍️नोटबंदी✍️
'अशांत' शेखर
राजू श्रीवास्तव - एक श्रृद्धांजली
Shyam Sundar Subramanian
कवि का कवि से
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
जनता की आवाज़
Shekhar Chandra Mitra
"आधुनिक काल के महानतम् गणितज्ञ श्रीनिवास रामानुजन्"
Pravesh Shinde
रहे मुहब्बत सदा ही रौशन..
अश्क चिरैयाकोटी
पढ़ना और पढ़ाना है
kumar Deepak "Mani"
"शब्दकोश में शब्द नहीं हैं, इसका वर्णन रहने दो"
Kumar Akhilesh
खुशियों भरे पल
surenderpal vaidya
बदरी
सूर्यकांत द्विवेदी
"पुष्प"एक आत्मकथा मेरी
Archana Shukla "Abhidha"
सबके मन मे राम हो
Kavita Chouhan
ज़ालिम दुनियां में।
Taj Mohammad
अभिव्यक्ति की आजादी पर अंकुश
ओनिका सेतिया 'अनु '
कला
Saraswati Bajpai
“ फेसबुक क प्रणम्य देवता ”
DrLakshman Jha Parimal
हमने किस्मत से आँखें लड़ाई मगर
VINOD KUMAR CHAUHAN
Loading...