Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jun 2016 · 1 min read

ग़ज़ल :– आँगन में आत्मसमर्पण देखा !!

ग़ज़ल –: आँगन में आत्मसमर्पण देखा !!
गज़लकार–: अनुज तिवारी “इंदवार”

आग में झुलसी दुल्हन देखा !
जितनी भी सब निर्धन देखा !!
!
अम्बर के अडिग इरादों का !
आँगन में आत्मसमर्पण देखा !!
!
अरमानों के मण्डप पर बैठी !
उन सांसों की उलझन देखा !!
!
कहीं तड़फ़ती चूड़ी हाथों में !
कहीं खनकते कंगन देखा !!
!
नम आँखों के बोझिल आँसू में !
सागर का खारापन देखा !!
!
हुई प्रज्वलित लौ ज्वाला की !
जब आँखों नें दर्पण देखा !!
!
कहने को दुनियाँ अपनी पर !
कहीं नहीं अपनापन देखा !!

2 Comments · 367 Views
You may also like:
पापा मेरे पापा ॥
सुनीता महेन्द्रू
# हमको नेता अब नवल मिले .....
Chinta netam " मन "
Writing Challenge- प्रकाश (Light)
Sahityapedia
निज सुरक्षित भावी
AMRESH KUMAR VERMA
कृष्ण भक्ति
लक्ष्मी सिंह
रहना सम्भलकर यारों
gurudeenverma198
ये दिल धड़कता नही अब तुम्हारे बिना
Ram Krishan Rastogi
* सूर्य स्तुति *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जीवन में खुश कैसे रहें
Dr fauzia Naseem shad
*~* वक्त़ गया हे राम *~*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
हर्षवर्धन महान
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जिस नारी ने जन्म दिया
VINOD KUMAR CHAUHAN
मेरा आजादी का भाषण
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
माँ का प्यार
Anamika Singh
तेरी दहलीज़ तक
Kaur Surinder
पिता
Abhishek Pandey Abhi
पिता के रिश्ते में फर्क होता है।
Taj Mohammad
पिता जी
Rakesh Pathak Kathara
Though of the day 😇
ASHISH KUMAR SINGH
ख्वाबों से हकीकत
shabina. Naaz
जीवन के आधार पिता
Kavita Chouhan
धार छंद "आज की दशा"
बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
बदला हुआ ज़माना है
Dr. Sunita Singh
✍️ज़ख्मो का स्वाद✍️
'अशांत' शेखर
" सहमी कविता "
DrLakshman Jha Parimal
🌺🌺प्रेम की राह पर-41🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
भारत का दुर्भाग्य
Shekhar Chandra Mitra
माल्यार्पण (हास्य व्यंग)
Ravi Prakash
Anand mantra
Rj Anand Prajapati
ऐसे थे पापा मेरे !
Kuldeep mishra (KD)
Loading...