Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jun 2016 · 1 min read

ग़ज़ल :– अपनी जुबां से कह नहीं सकते !!

ग़ज़ल :–अपनी जुबां से कह नहीं सकते ।
गज़लकार :– अनुज तिवारी “इन्दवार”

दिलों के रंज-गम अपनी जुबां से कह नहीं सकते ।
दगा दे यार साहिल पर समन्दर सह नहीं सकते ।।

मचा ले खलबली चाहे यहाँ आगोश में लहरें ।
तूफां भी चाहे तो समन्दर बह नहीं सकते ।।

तजुर्बा था बहुत हमको हुनर भी काम ना आया ।
जिगर में जख्म ऐसे थे की मरहम भर नहीं सकते ।।

गुलों के गुलाबी रंग के कायल ये भंवरे भी ।
कांटे गर चुभे दामन ये जिंदा रह नहीं सकते ।।

“अनुज” देता है नसीहत यहां इन गम के मारों को ।
वो अक्सर टूट जाते हैं जो पत्थर ढह नहीं सकते ।।

2 Likes · 323 Views
You may also like:
आज का मानव
Shyam Sundar Subramanian
जियो उनके लिए/JEEYO unke liye
Shivraj Anand
The broken sad all green leaves.
Taj Mohammad
जीवन के आधार पिता
Kavita Chouhan
तपों की बारिश (समसामयिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आखिर क्या... दुनिया को
Nitu Sah
हमदर्द हो जो सबका मददगार चाहिए।
सत्य कुमार प्रेमी
मित्र मिलन
जगदीश लववंशी
तुम्हारी यादें
Dr. Sunita Singh
प्रेम सुधा
लक्ष्मी सिंह
एक मजदूर
Rashmi Sanjay
उस पार
shabina. Naaz
अपने किसी पद का तू
gurudeenverma198
गंगा दशहरा
श्री रमण 'श्रीपद्'
✍️✍️जरी ही...!✍️✍️
'अशांत' शेखर
कारस्तानी
Alok Saxena
महापंडित ठाकुर टीकाराम 18वीं सदीमे वैद्यनाथ मंदिर के प्रधान पुरोहित
श्रीहर्ष आचार्य
पिता अब बुढाने लगे है
n_upadhye
जान जाती है उसके जाने से ।
Dr fauzia Naseem shad
'प्यारी ऋतुएँ'
Godambari Negi
ईश्वर की ठोकर
Vikas Sharma'Shivaaya'
चरित्रहीन
Shekhar Chandra Mitra
घर
Sushil chauhan
हिंदी दोहे बिषय- विकार
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
दोहा छंद- पिता
रेखा कापसे
गधा
Buddha Prakash
कोरोना दोहा एकादशी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कविता
Sushila Joshi
कारगिल फतह का २३वां वर्ष
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*अग्रसेन जी धन्य (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Loading...