Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

ग़ज़ल।मुझको सिफ़ारिश न मिली ।

आज तक मेरे प्यार को बेसक गुज़ारिश न मिली ।
हूँ आंसुओ में तरबतर पर एक बारिस न मिली ।।

आये इलाजे इश्क़ की बनकर दवा इस जिंदगी में ।
चार दिन रौनक रही फ़िर कोई नुमाइश न मिली ।

एकटक नज़रों के बदले दे गये तनहाइयां फ़िर ।
दर्द का हिस्सा मिला यांदें निख़ालिश न मिली ।।

बेवज़ह आँखों का मेरे जुल्म साबित हो चुका था ।
फ़ैसला उनको मिला मुझको सिफ़ारिश न मिली ।

एक दिल था ,एक उनके थी अदाओं की काशिस ।
एक तरफ़ा प्यार में कुछ आजमाइस न मिली ।

रौंदकर मेरी चाहतों को खो गये हमआम बनकर ।
मंजिलें लाखों मिली पर एक ख़्वाहिश न मिली ।।

आज भी गर्दिश है’रकमिश’ तू नही तो कुछ नही ।
प्यार में खाया ज़फ़ा फ़िर भी रहाइस न मिली ।।

©राम केश मिश्र’रकमिश’

139 Views
You may also like:
जब भी तन्हाईयों में
Dr fauzia Naseem shad
यह चिड़ियाँ अब क्या करेगी
Anamika Singh
छलकाओं न नैना
Dr. Alpa H. Amin
ये जमीं आसमां।
Taj Mohammad
कोई चाहने वाला होता।
Taj Mohammad
फादर्स डे पर विशेष पिरामिड कविता
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
ये जिंदगी एक उलझी पहेली
VINOD KUMAR CHAUHAN
तेरी खैर मांगता हूं खुदा से।
Taj Mohammad
नाम लेकर भुला रहा है
Vindhya Prakash Mishra
बेजुबां जीव
Jyoti Khari
आज कुछ ऐसा लिखो
Saraswati Bajpai
थिरक उठें जन जन,
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कलम
Dr Meenu Poonia
पिता खुशियों का द्वार है।
Taj Mohammad
'तुम भी ना'
Rashmi Sanjay
आशाओं की बस्ती
सूर्यकांत द्विवेदी
शहीद भारत यदुवंशी को मेरा नमन
Surabhi bharati
ऐसे तो ना मोहब्बत की जाती है।
Taj Mohammad
अंदाज़।
Taj Mohammad
पिया-मिलन
Kanchan Khanna
फूलो की कहानी,मेरी जुबानी
Anamika Singh
✍️✍️दोस्त✍️✍️
"अशांत" शेखर
शिक्षा संग यदि हुनर हो...
मनोज कर्ण
✍️झूठा सच✍️
"अशांत" शेखर
आंधी में दीया
Shekhar Chandra Mitra
और जीना चाहता हूं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
गम आ मिले।
Taj Mohammad
संघर्ष
Arjun Chauhan
न और ना प्रयोग और अंतर
Subhash Singhai
प्यारा भारत
AMRESH KUMAR VERMA
Loading...