Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 17, 2022 · 2 min read

“ गलत प्रयोग से “ अग्निपथ “ नहीं बनता बल्कि सम्पूर्ण क्रांति उभरती है ”

डॉ लक्ष्मण झा “ परिमल “
===================================================
विगत वर्षों में बड़े अजीब गरीब फैसले लिए गए जिसका समय -समय पर विरोध होना स्वाभाविक था ! पर
सेना के तीनों अंगों, आर्मी ,नैवी और एयर फोर्स के जवानों की भर्ती के नए नियमों के तहद होगा ,बहुत दुर्भाग्य पूर्ण साबित हो रहा है ! ये जवान चार वर्षों तक ही अपनी सेवा दे सकेंगे ! इन जवानों में 25% को ही नियमित किया जाएगा ! ये अग्निपथ आर्मी के अग्निवीर सिपाही कहलाएंगे ! 17.5 साल से 23 साल तक भर्ती की इनकी उम्र होगी !
इसकी प्रतिक्रिया में आक्रोशित छात्र सड़कों पर उतर आए ! विरोध का स्वर गूँजने लगा ! भारत के विभिन्य राज्यों में भीड़ ने उग्र रूप धारण किया ! सरकारी संपत्ति को नष्ट किया गया ! सरकार की गलत नीति का जम कर विरोध होने लगा ! लोग महँगायी और बेरोजगारी से पहले ही परेशान हैं ! और अब ठेके की नौकरी? वह भी आर्मी में ? लोग अपने भविष्य को सँवारने ,जान हथेली पर रख देश की रक्षा के लिए अपने प्राणों की आहुति हँस -हँस कर देने के लिए , जो युवा अपने सपनों देखते हैं ! आज युवा अपने को छला महसूस पाते हैं ! उन्हें पेंशन नहीं और ना कोई सुविधा चार सालों के बाद मिलेगी !
मुझे याद है कि 1972 -1975 तक मैंने बेसिक ट्रैनिंग और प्रोफेशनल ट्रैनिंग में लगाया ! इन सब प्रशिक्षणों के बाद मेरा ऐटेस्टेशन हुआ और में एक फौजी बना ! उसके बाद मेरी पोस्टिंग किसी अस्पताल में हुई ! और फिर अड्वान्स कोर्स के लिए 6 महीने ,9 महीने और 13 महीने मुझे ट्रैनिंग करनी पड़ी ! प्रमोशन कोर्स के लिए 2 महीने और फिर 2 महीने कोर्स करने पड़े ! कुल 5 वर्ष 6 महीने मेरी ट्रैनिंग रही तब जाके मुझे फौजी कहा जाने लगा !
अब “ अग्निपथ “ आर्मी के अग्निवीर की भर्ती मजाक बन गयी ! जब तक वो कुछ सीख भी ना पाएंगे तब तक उन्हें बाहर का रास्ता दिखा दिया जाएगा ! हमारी सीमा असुरक्षित है ! हमें एक सबल और सक्षम सैन्य की आवश्यकता है ! अग्निवीर को कहीं अग्नि के हवाले तो नहीं करना है ? वे तो अपने संगठन को भली भाँति समझ भी नहीं पाएंगे तब तक आर्मी छोड़कर उन्हें जाना पड़ेगा !
25 % की स्थायी होड़ में सब के सब अग्निवीर का अनुपयुक्त प्रयोग किया जाएगा ! उन्हें अपने अधिकारियों का निजी सहायक बन कर रहना पड़ेगा ! कहने को अग्निवीर और करने को “ सहायकवीर !”
मैं तोड़फोड़ ,आगजनी और सरकारी चीजों को नुकसान के विरुद्ध हूँ पर सरकार को इतना अनुरोध कर सकता हूँ कि इस तरह के असफल प्रयोग ना करें ! अग्निपथ के वीर कहीं सम्पूर्ण क्रांति का आवाहन ना कर दें ! सरकार जनता की है और जनता की आवाज को समय पर सुन लें !
======================
डॉ लक्ष्मण झा “परिमल ”
साउंड हेल्थ क्लिनिक
एस ० पी ० कॉलेज रोड
दुमका
झारखंड
भारत
17.06.2022

1 Like · 90 Views
You may also like:
ईश्वरतत्वीय वरदान"पिता"
Archana Shukla "Abhidha"
*अमूल्य निधि का मूल्य (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
फूल कोई।
Taj Mohammad
मैं परछाइयों की भी कद्र करता हूं
VINOD KUMAR CHAUHAN
कोई न अपना
AMRESH KUMAR VERMA
पिता
Shankar J aanjna
*तजकिरातुल वाकियात* (पुस्तक समीक्षा )
Ravi Prakash
रिश्ते
कुलदीप दहिया "मरजाणा दीप"
इलाहाबाद आयें हैं , इलाहाबाद आये हैं.....अज़ल
लवकुश यादव "अज़ल"
यक्ष प्रश्न ( लघुकथा संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
उपदेश से तृप्त किया ।
Buddha Prakash
भारत लोकतंत्र एक पर्याय
Rj Anand Prajapati
मतलब के रिश्ते
Anamika Singh
पिता जीवन में ऐसा ही होता है।
Taj Mohammad
आज अपना सुधार लो
Anamika Singh
प्यार तुम्हीं पर लुटा दूँगा।
Buddha Prakash
कोशिश
Anamika Singh
जिंदगी के अनमोल मोती
AMRESH KUMAR VERMA
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग३]
Anamika Singh
कुछ झूठ की दुकान लगाए बैठे है
Ram Krishan Rastogi
बुध्द गीत
Buddha Prakash
इस तरह
Dr fauzia Naseem shad
✍️हौंसला जवाँ उठा है✍️
"अशांत" शेखर
महेंद्र जी (संस्मरण / पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
कहानी *"ममता"* पार्ट-2 लेखक: राधाकिसन मूंधड़ा, सूरत।
radhakishan Mundhra
खींच मत अपनी ओर.....
डॉ.सीमा अग्रवाल
✍️हिटलर अभी जिंदा है...✍️
"अशांत" शेखर
शहीद का पैगाम!
Anamika Singh
"Happy National Brother's Day"
Lohit Tamta
बाबूजी! आती याद
श्री रमण 'श्रीपद्'
Loading...