Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Sep 22, 2022 · 1 min read

गर याद आती है तो मिलने का बहाना ढूंढिए

गर याद आती है तो मिलने का बहाना ढूंढिए,
पर हिचकियों से हमें यूं परेशान न कीजिए…!!
– कृष्ण सिंह

1 Like · 7 Views
You may also like:
हर एक रिश्ता निभाता पिता है –गीतिका
रकमिश सुल्तानपुरी
आह! भूख और गरीबी
Dr fauzia Naseem shad
आतुरता
अंजनीत निज्जर
फूल और कली के बीच का संवाद (हास्य व्यंग्य)
Anamika Singh
तुम ना आए....
डॉ.सीमा अग्रवाल
"कल्पनाओं का बादल"
Ajit Kumar "Karn"
ख़्वाहिशें बे'लिबास थी
Dr fauzia Naseem shad
सफलता कदम चूमेगी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दिल का यह
Dr fauzia Naseem shad
बुआ आई
राजेश 'ललित'
आज मस्ती से जीने दो
Anamika Singh
पहनते है चरण पादुकाएं ।
Buddha Prakash
आंसूओं की नमी का क्या करते
Dr fauzia Naseem shad
✍️कोई नहीं ✍️
Vaishnavi Gupta
ख़्वाहिश पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
हम सब एक है।
Anamika Singh
हिन्दी साहित्य का फेसबुकिया काल
मनोज कर्ण
पिता हैं धरती का भगवान।
Vindhya Prakash Mishra
✍️बारिश का मज़ा ✍️
Vaishnavi Gupta
इन्सानियत ज़िंदा है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ये बारिश का मौसम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता
Meenakshi Nagar
सपनों में खोए अपने
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
इंतज़ार थमा
Dr fauzia Naseem shad
सो गया है आदमी
कुमार अविनाश केसर
नर्मदा के घाट पर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
तुम्हीं हो मां
Krishan Singh
पापा
सेजल गोस्वामी
*"पिता"*
Shashi kala vyas
ये शिक्षामित्र है भाई कि इसमें जान थोड़ी है
आकाश महेशपुरी
Loading...