Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Sep 2022 · 1 min read

गर बेहिसाब मुझको याद करोगे तुम

गर बेहिसाब मुझको याद करोगे तुम,
अजी, लगता है हिचकियों से बीमार करोगे तुम…!!
– कृष्ण सिंह

2 Likes · 11 Views
You may also like:
ज़िंदगी हमको
Dr fauzia Naseem shad
संविदा की नौकरी का दर्द
आकाश महेशपुरी
✍️दो पल का सुकून ✍️
Vaishnavi Gupta
संकुचित हूं स्वयं में
Dr fauzia Naseem shad
देव शयनी एकादशी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जाने क्या-क्या ? / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कौन था वो ?...
मनोज कर्ण
✍️जिंदगानी ✍️
Vaishnavi Gupta
गाऊँ तेरी महिमा का गान (हरिशयन एकादशी विशेष)
श्री रमण 'श्रीपद्'
मेरी लेखनी
Anamika Singh
माखन चोर
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
भगवान हमारे पापा हैं
Lucky Rajesh
मेरे जैसा
Dr fauzia Naseem shad
क्यों हो गए हम बड़े
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
टोकरी में छोकरी / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पापा करते हो प्यार इतना ।
Buddha Prakash
जीत कर भी जो
Dr fauzia Naseem shad
चुनिंदा अशआर
Dr fauzia Naseem shad
*!* "पिता" के चरणों को नमन *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
मन की पीड़ा
Dr fauzia Naseem shad
ओ मेरे साथी ! देखो
Anamika Singh
नर्मदा के घाट पर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दर्द ख़ामोशियां
Dr fauzia Naseem shad
थोड़ी सी कसक
Dr fauzia Naseem shad
आजादी अभी नहीं पूरी / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
क्या लगा आपको आप छोड़कर जाओगे,
Vaishnavi Gupta
आ ख़्वाब बन के आजा
Dr fauzia Naseem shad
The Buddha And His Path
Buddha Prakash
उस पथ पर ले चलो।
Buddha Prakash
✍️One liner quotes✍️
Vaishnavi Gupta
Loading...