Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#2 Trending Author
May 20, 2022 · 1 min read

गर्मी का कहर

ए ! गर्मी तेरे बस में कुछ भी नही है,
यहाँ तेरे से कोई डरने वाला नही है।
सब दिल यहां पत्थर के बन हुए है,
यहां कोई अब पिघलने वाला नही है।।

ए ! गर्मी तू इतनी उबाल क्यो रही है
सर पर चढ़कर इतना बोल क्यो रही है।
कुछ दिनों की मेहमान है तू अब,
अपने आपे से निकल क्यो रही है।।

ए ! गर्मी तू जाड़ों में क्यों नहीं आती,
जब ठंड पड़ती है तब क्यों नही आती।
क्यो करे तेरा खैरमकदम हम सब,
जब जरूरत होती तब क्यों नही आती।।

ए ! गर्मी तू अपनी औकात में रह,
लोगो पर तू इतने कहर न ढह।
उन लोगो का भी तू ख्याल कर,
जिनके सिर पर कोई छत न है।।

ए ! गर्मी क्यो तू ढा रही है कहर,
तेरे कारण ही लोग पड़े है बीमार।
तूने ढाए जुल्म सब चीजों पर ही,
कूलर ए सी कर दिए तूने बेकार।।

आर के रस्तोगी गुरुग्राम

6 Likes · 6 Comments · 127 Views
You may also like:
ऐ जिन्दगी
Anamika Singh
मेरा ना कोई नसीब है।
Taj Mohammad
पुस्तक समीक्षा-"तारीखों के बीच" लेखक-'मनु स्वामी'
Rashmi Sanjay
ज़िंदगी मयस्सर ना हुई खुश रहने की।
Taj Mohammad
अंतरराष्ट्रीय योग दिवस
Ram Krishan Rastogi
जी हाँ, मैं
gurudeenverma198
राई का पहाड़
Sangeeta Darak maheshwari
✍️स्टेचू✍️
"अशांत" शेखर
" मायूस धरती "
Dr Meenu Poonia
किसको बुरा कहें यहाँ अच्छा किसे कहें
Dr Archana Gupta
माटी के पुतले
AMRESH KUMAR VERMA
दीया तले अंधेरा
Vikas Sharma'Shivaaya'
सरसी छंद और विधाएं
Subhash Singhai
छद्म राष्ट्रवाद की पहचान
Mahender Singh Hans
कुछ तुम बदलो, कुछ हम बदलें।
निकेश कुमार ठाकुर
I love to vanish like that shooting star.
Manisha Manjari
आज मस्ती से जीने दो
Anamika Singh
फूल
Alok Saxena
वनवासी संसार
सूर्यकांत द्विवेदी
अपनी क़िस्मत को फिर बदल कर देखते हैं
Muhammad Asif Ali
तेरा चलना ओए ओए ओए
D.k Math
जब भी देखा है दूर से देखा
Anis Shah
हम कहाँ लिख पाते 
Dr. Alpa H. Amin
परिकल्पना
संदीप सागर (चिराग)
तेरे दिल में कोई और है
Ram Krishan Rastogi
पर्यावरण दिवस
Ram Krishan Rastogi
इन्तजार किया करतें हैं
शिव प्रताप लोधी
डर काहे का..!
"अशांत" शेखर
तुम्हारा हर अश्क।
Taj Mohammad
प्यार, इश्क, मुहब्बत...
Sapna K S
Loading...