Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Mar 5, 2019 · 1 min read

गर्भ में पल रही एक बेटी की गुहार

गीत

कम नहीं तेरे बेटों से बेटी तेरी
नाम ऊँचा तेरा जग में कर जाऊँगी
तू बुलाले अपने चमन में मुझे
तेरा दामन मैं ख़ुशियों से भर जाऊँगी

तेरी परछाईं हूँ तेरी साँसें हूँ मैं
तेरे दिल का ही छोटा सा टुकड़ा हूँ मैं
मैया तू ही बता और समझा मुझे
तेरे हृदय का क्या कोई दुखड़ा हूँ मैं
तू काहे को गुम सुम सी बैठी है माँ
तेरी ख़ातिर मैं जीते जी मर जाऊँगी

तू बुलाले अपने चमन में मुझे
तेरा दामन मैं ख़ुशियों से भर जाऊँगी
कम नहीं तेरे बेटों से बेटी तेरी
नाम ऊँचा तेरा जग में कर जाऊँगी

बोलो बापू क्यूँ मुझसे नाराज़ हैं
जो मैं कर ना सकूँ कौन से काज हैं
क्यूँ चहाते हैं जग में मैं आऊँ नहीं
माँ बताओ मुझे कौन से राज हैं
तेरे बेटों से बेटा मैं बन जाऊँगी
बनके बेटा तेरा मैं भी तर जाऊँगी

तू बुलाले अपने चमन में मुझे
तेरा दामन मैं ख़ुशियों से भर जाऊँगी
कम नहीं तेरे बेटों से बेटी तेरी
नाम ऊँचा तेरा जग में कर जाऊँगी

© डॉ०प्रतिभा ‘माही’
03/02/2019

3 Likes · 282 Views
You may also like:
मैंने उस पल को
Dr fauzia Naseem shad
स्वार्थ
Vikas Sharma'Shivaaya'
बयां सारा हम हाले दिल करेंगे।
Taj Mohammad
✍️यूँही मैं क्यूँ हारता नहीं✍️
"अशांत" शेखर
परिस्थिति
AMRESH KUMAR VERMA
पुस्तैनी जमीन
आकाश महेशपुरी
आई सावन की बहार,खुल कर मिला करो
Ram Krishan Rastogi
पिता जी का आशीर्वाद है !
Kuldeep mishra (KD)
तुम हमें तन्हा कर गए
Anamika Singh
माँ (खड़ी हूँ मैं बुलंदी पर मगर आधार तुम हो...
Dr Archana Gupta
मंजिल की तलाश
AMRESH KUMAR VERMA
सीधे सीधे कहते हैं।
Taj Mohammad
तेरी नजरों में।
Taj Mohammad
अश्रुपात्र ... A glass of tears भाग - 5
Dr. Meenakshi Sharma
✍️बर्दाश्त की हद✍️
"अशांत" शेखर
फरिश्ता से
Dr.sima
'स्मृतियों की ओट से'
Rashmi Sanjay
रिश्तों की अहमियत को न करें नज़र अंदाज़
Dr fauzia Naseem shad
बिक रहा सब कुछ
Dr. Rajeev Jain
गुज़रते कैसे हैं ये माह ओ साल मत पूछो
Anis Shah
रोता आसमां
Alok Saxena
*तजकिरातुल वाकियात* (पुस्तक समीक्षा )
Ravi Prakash
यह दिल
Anamika Singh
घर की पुरानी दहलीज।
Taj Mohammad
दिल का यह
Dr fauzia Naseem shad
माँ +माँ = मामा
Mahendra Rai
'बेदर्दी'
Godambari Negi
नन्हा और अतीत
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
मार्मिक फोटो
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
रे मेघा तुझको क्या गरज थी
kumar Deepak "Mani"
Loading...