Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jun 2022 · 1 min read

गरम हुई तासीर दही की / (गर्मी का नवगीत)

ग़जब दाँद है
सही-सही की,
गरम हुई
तासीर दही की ।

बिजली गरम,
गरम पंखा है
कूलर फेंके
गरम हवाएँ ।
पूरब-पश्चिम,
उत्तर-दक्षिण
से आती हैं
उष्ण सदाएँ ।

छाती धक-धक
करे मही की ।
गरम हुई
तासीर दही की ।

नीम तपी,
महुआ गर्मीला,
जामुन,आम
सिमटती ठंडक ।
छुन-छुन करता
बहे पसीना,
कोल्ड-ड्रिंक्स
में सड़ती ठंडक ।

देखी,परखी,
सुनी,कही की ।
अजब दाँद है,
सही-सही की ।

नीबू तपता,
बेल दहकता,
गरम मुरब्बा,
पना गरम है ।
पत्ते सूखे,
रूठी छाया,
डाल चटकती,
तना गरम है ।

कोर-कसर है
रही-सही की ।
गरम हुई
तासीर दही की ।

०००

मही यानि धरती ।
सदाएँ यानि ध्वनियाँ ।

— ईश्वर दयाल गोस्वामी
छिरारी (रहली),सागर
मध्यप्रदेश ।

Language: Hindi
Tag: गीत
10 Likes · 12 Comments · 265 Views
You may also like:
इन तन्हाइयों में तुम्हारी याद आयेगी
Ram Krishan Rastogi
लघुकथा- 'रेल का डिब्बा'
जगदीश शर्मा सहज
साथ किसने निभाया है
Dr fauzia Naseem shad
रेत पर नाम लिख मैं इरादों को सहला आयी।
Manisha Manjari
एक ग़ज़ल लिख रहा हूं।
Taj Mohammad
'हरि नाम सुमर' (डमरू घनाक्षरी)
Godambari Negi
दीप जले है दीप जले
Buddha Prakash
गुरु है महान ( गुरु पूर्णिमा पर विशेष)
ओनिका सेतिया 'अनु '
सौ बात की एक
Dr.sima
एक झूठा और ब्रह्म सत्य
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
संविधान को लागू करने की ज़िम्मेदारी
Shekhar Chandra Mitra
अजनबी
लक्ष्मी सिंह
कुछ सवाल
manu sweta sweta
दीनानाथ दिनेश जी से संपर्क
Ravi Prakash
गीतकार मजरूह पर दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
लोग कहते हैं कैसा आदमी हूं।
सत्य कुमार प्रेमी
वक्त गर साथ देता
VINOD KUMAR CHAUHAN
■ कविता / कहता. अगर बोल पाता तो....!
प्रणय प्रभात
क्रांतिकारी विरसा मुंडा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
“ कुछ दिन शरणार्थियों के साथ ”
DrLakshman Jha Parimal
रक्षाबंधन गीत
Dr Archana Gupta
बरसात
मनोज कर्ण
संविधान /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आग़ाज़
Shyam Sundar Subramanian
सफलता की दहलीज पर
कवि दीपक बवेजा
इच्छा
Anamika Singh
मत्तगयंद सवैया ( राखी )
संजीव शुक्ल 'सचिन'
काम का बोझ
जगदीश लववंशी
✍️....और क्या क्या देखना बाकी है।✍️
'अशांत' शेखर
गीत - मैं अकेला दीप हूं
Shivkumar Bilagrami
Loading...