गया जो देखकर इक बार चारागर, नहीं लौटा

किसी दिल के दरीचे से कोई जाकर नहीं लौटा
जूँ निकला अश्क राहे चश्म से बाहर, नहीं लौटा

वो क़ासिद, जो भी मेरा ख़त गया लेकर तेरी जानिब
न कोई बात है तो यार! क्यूँ अक्सर नहीं लौटा

मेरा दिल चंद पल तफ़रीह को तुझ तक गया था पर
न जाने क्यूँ वो आवारा अभी तक घर नहीं लौटा

बड़ी है तीरगी ठहरो मशाले जज़्बा ले आऊँ
यही कहकर गया लेकिन मेरा रहबर नहीं लौटा

बड़ी नाज़ुक है शायद मुझ मरीज़े इश्क़ की हालत
गया जो देखकर इक बार चारागर, नहीं लौटा

नहीं वाज़िब है यूँ दिल पे यक़ीं करना भी ग़ाफ़िल जी
करोगे क्या बताकर ही गया पर गर नहीं लौटा

-‘ग़ाफ़िल’

129 Views
You may also like:
#जंगली फर (चार)....
Chinta netam मन
Where is Humanity
Dheerendra Panchal
पिता खुशियों का द्वार है।
Taj Mohammad
# स्त्रियां ...
Chinta netam मन
किसको बुरा कहें यहाँ अच्छा किसे कहें
Dr Archana Gupta
भारतवर्ष स्वराष्ट्र पूर्ण भूमंडल का उजियारा है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
श्रीराम गाथा
मनोज कर्ण
** दर्द की दास्तान **
Dr. Alpa H.
स्वप्न-साकार
Prabhudayal Raniwal
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता हैं [भाग८]
Anamika Singh
तेरे दिल में कोई साजिश तो नहीं
Krishan Singh
परछाई से वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
राह जो तकने लगे हैं by Vinit Singh Shayar
Vinit Singh
बरसात की छतरी
Buddha Prakash
"जीवन"
Archana Shukla "Abhidha"
पिता तुम हमारे
Dr. Pratibha Mahi
परिंदों सा।
Taj Mohammad
एक ख़्वाब।
Taj Mohammad
पहली मुहब्बत थी वो
अभिनव मिश्र अदम्य
*!* रचो नया इतिहास *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
सोना
Vikas Sharma'Shivaaya'
तितली सी उड़ान है
VINOD KUMAR CHAUHAN
आरज़ू है बस ख़ुदा
Dr. Pratibha Mahi
अभी तुम करलो मनमानियां।
Taj Mohammad
अर्धनारीश्वर की अवधारणा...?
मनोज कर्ण
डॉ. भीमराव रामजी अम्बेडकर
N.ksahu0007@writer
"बेटी के लिए उसके पिता क्या होते हैं सुनो"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
कुछ दिन की है बात ,सभी जन घर में रह...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
अरविंद सवैया
संजीव शुक्ल 'सचिन'
बड़ा भाई बोल रहा हूं
Satpallm1978 Chauhan
Loading...