#12 Trending Author
May 12, 2022 · 1 min read

गम हो या हो खुशी।

गम हो या हो खुशी,
अपना तो कुछ भी है ही नही।
ऐ जिंदगी तू ही बता,
तू क्यों मुझ में बदलती नही।।

यूं लाख कोशिशे की,
पर यादें उनकी भूलती नही।
धड़के यह दिल कैसे,
उस बिन सांसे चलती नही।।

हालात सुधरते नही,
जिन्दगी तू भी संवरती नहीं।
यूं किससे क्या कहें,
कहीं से उम्मीद मिलती नहीं।।

ताज मोहम्मद
लखनऊ

22 Views
You may also like:
कभी सोचा ना था मैंने मोहब्बत में ये मंजर भी...
Krishan Singh
अंजान बन जाते हैं।
Taj Mohammad
मैं हूँ किसान।
Anamika Singh
छीन लिए है जब हक़ सारे तुमने
Ram Krishan Rastogi
डगर कठिन हो बेशक मैं तो कदम कदम मुस्काता हूं
VINOD KUMAR CHAUHAN
कोई मंझधार में पड़ा हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
【3】 ¡*¡ दिल टूटा आवाज हुई ना ¡*¡
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
फिर से खो गया है।
Taj Mohammad
यादें
Sidhant Sharma
पितृ वंदना
मनोज कर्ण
गुरुजी!
Vishnu Prasad 'panchotiya'
प्रकाशित हो मिल गया, स्वाधीनता के घाम से
Pt. Brajesh Kumar Nayak
"मैं तुम्हारा रहा"
Lohit Tamta
पिता
Santoshi devi
नई तकदीर
मनोज कर्ण
काश बचपन लौट आता
Anamika Singh
निर्गुण सगुण भेद..?
मनोज कर्ण
तुम जो मिल गई हो।
Taj Mohammad
मां
Dr. Rajeev Jain
*पुस्तक का नाम : अँजुरी भर गीत* (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
*सादा जीवन उच्च विचार के धनी कविवर रूप किशोर गुप्ता...
Ravi Prakash
कोई हमारा ना हुआ।
Taj Mohammad
**जीवन में भर जाती सुवास**
Dr. Alpa H.
Destined To See A Totally Different Sight
Manisha Manjari
पिता - जीवन का आधार
आनन्द कुमार
पापा आप बहुत याद आते हो।
Taj Mohammad
अभी बाकी है
Lamhe zindagi ke by Pooja bharadawaj
एक शख्स ही ऐसा होता है
Krishan Singh
அழியக்கூடிய மற்றும் அழியாத
Shyam Sundar Subramanian
# स्त्रियां ...
Chinta netam मन
Loading...