Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Apr 8, 2022 · 1 min read

मेरे दिल को जख्मी तेरी यादों ने बार बार किया

गम बहुत था तुझसे बिछड़ने का,
फिर भी दर्द से कभी इंकार नहीं किया ….
पर मेरे दिल को जख्मी,
तुम्हारी यादों ने बार बार किया ….
– कृष्ण सिंह

1 Like · 90 Views
You may also like:
हमारे पापा
पाण्डेय चिदानन्द
मैं हूँ किसान।
Anamika Singh
खाली मन से लिखी गई कविता क्या होगी
Sadanand Kumar
*अध्यात्म ज्योति :* अंक 1 ,वर्ष 55, प्रयागराज जनवरी -...
Ravi Prakash
तो क्या होगा?
Shekhar Chandra Mitra
पिता
Ram Krishan Rastogi
धीरे-धीरे कदम बढ़ाना
Anamika Singh
भारत की जाति व्यवस्था
AMRESH KUMAR VERMA
आशाओं के दीप.....
Chandra Prakash Patel
GOD YOU are merciful.
Taj Mohammad
💐प्रेम की राह पर-24💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*स्वर्गीय श्री जय किशन चौरसिया : न थके न हारे*
Ravi Prakash
इंतजार का....
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मेरा अक्स तो आब है।
Taj Mohammad
【12】 **" तितली की उड़ान "**
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
कुछ हंसी पल खुशी के।
Taj Mohammad
मारुति वंदन
Vishnu Prasad 'panchotiya'
* तुम्हारा ऐहसास *
Dr. Alpa H. Amin
✍️मेरी तलाश...✍️
"अशांत" शेखर
माँ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
Jyoti Khari
बालू का पसीना "
Dr Meenu Poonia
मनोमंथन
Dr. Alpa H. Amin
गम आ मिले।
Taj Mohammad
रेलगाड़ी- ट्रेनगाड़ी
Buddha Prakash
गीत की लय...
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
*!* मेरे Idle मुन्शी प्रेमचंद *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
ग़ज़ल
Awadhesh Saxena
कहो अब और क्या चाहें
VINOD KUMAR CHAUHAN
दादी मां की बहुत याद आई
VINOD KUMAR CHAUHAN
Loading...