Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 20, 2022 · 1 min read

गम तेरे थे।

ज्यादा तो गम तेरे थे।
मेरे तो बहुत कम थे।।

✍️✍️ ताज मोहम्मद ✍️✍️

56 Views
You may also like:
मेरे मुस्कराने की वजह तुम हो
Ram Krishan Rastogi
शराफत में इसको मुहब्बत लिखेंगे।
सत्य कुमार प्रेमी
.✍️स्काई इज लिमिटच्या संकल्पना✍️
'अशांत' शेखर
दर्शन शास्त्र के ज्ञाता, अतीत के महापुरुष
Mahender Singh Hans
गंगा माँ
Anamika Singh
किसी से ना कोई मलाल है।
Taj Mohammad
उम्मीद
Harshvardhan "आवारा"
कुछ तो उबाल दो
Dr fauzia Naseem shad
**मानव ईश्वर की अनुपम कृति है....
Prabhavari Jha
बहार के दिन
shabina. Naaz
✍️दिशाभूल✍️
'अशांत' शेखर
दो पल का जिंदगानी...
AMRESH KUMAR VERMA
पिता है मेरे रगो के अंदर।
Taj Mohammad
एक असमंजस प्रेम...
Sapna K S
✍️कल..आज..कल..✍️
'अशांत' शेखर
हमारा तिरंगा
ओनिका सेतिया 'अनु '
वनवासी संसार
सूर्यकांत द्विवेदी
इंसानो की यह कैसी तरक्की
Anamika Singh
गनर यज्ञ (हास्य-व्यंग)
दुष्यन्त 'बाबा'
मजदूरों का जीवन।
Anamika Singh
तुम ही ये बताओ
Mahendra Rai
त्रिशरण गीत
Buddha Prakash
बरसात
मनोज कर्ण
शहीद की आत्मा
Anamika Singh
दोस्त हो जो मेरे पास आओ कभी।
सत्य कुमार प्रेमी
मानुष हूं मैं या हूं कोई दरिंदा
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
सास-बहू
Rashmi Sanjay
जिंदगी देखा तुझे है आते अरु जाते हुए।
सत्य कुमार प्रेमी
जिन्दगी एक दरिया है
Anamika Singh
वन्दे मातरम वन्दे मातरम
Swami Ganganiya
Loading...