Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Mar 7, 2022 · 1 min read

गधा

चार पैरों की एक सवारी,
बोझा लादे कमर में भारी,

दिखता है सीधा-साधा आलसी,
कान खींचकर कहीं ले जाओ,

जहांँ पर न जाए मोटर कार,
वहांँ पर भी माल वाहक बन जाए,

पूँछ हिलाता खड़े-खड़े सुस्ताता,
हरी घास फूस भोजन में है खाता ,

धोबी के संग घाट पर जाता ,
ढ़ेंचूंँ-ढ़ेंचूँ आवाज है लगाता ,

कुछ कम बुद्धि का समझ है आता ,
कहने को बस गधा ही कहलाता ।

? ✍?
बुद्ध प्रकाश
मौदहा हमीरपुर ।

2 Likes · 193 Views
You may also like:
मैं बेटी हूँ।
Anamika Singh
हर एक रिश्ता निभाता पिता है –गीतिका
रकमिश सुल्तानपुरी
✍️पत्थर✍️
"अशांत" शेखर
बाबा साहेब जन्मोत्सव
Mahender Singh Hans
गुज़र रही है जिंदगी...!!
Ravi Malviya
धरती की अंगड़ाई
श्री रमण
नयी सुबह फिर आएगी...
मनोज कर्ण
न्याय
Vijaykumar Gundal
पिता
Neha Sharma
✍️✍️गुमराह✍️✍️
"अशांत" शेखर
✍️मेरा जिक्र हुवा✍️
"अशांत" शेखर
पंछी हमारा मित्र
AMRESH KUMAR VERMA
💐प्रेम की राह पर-22💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पक्षियों से कुछ सीखें
Vikas Sharma'Shivaaya'
हो दर्दे दिल तो हाले दिल सुनाया भी नहीं जाता।
सत्य कुमार प्रेमी
इश्क में बेचैनियाँ बेताबियाँ बहुत हैं।
Taj Mohammad
आजादी का जश्न
DESH RAJ
युवकों का निर्माण चाहिए
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जिन्दगी तेरा फलसफा।
Taj Mohammad
* जिंदगी हैं हसीन सौगात *
Dr. Alpa H. Amin
जिंदगी को खामोशी से गुज़ारा है।
Taj Mohammad
आदतें
AMRESH KUMAR VERMA
अम्बेडकर जी के सपनों का भारत
Shankar J aanjna
जुल्फ जब खुलकर बिखर गई
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
" मैं हूँ ममता "
मनोज कर्ण
सजना शीतल छांव हैं सजनी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
साधु न भूखा जाय
श्री रमण
पुस्तक की पीड़ा
सूर्यकांत द्विवेदी
Anand mantra
Rj Anand Prajapati
✍️मैं परिंदा...!✍️
"अशांत" शेखर
Loading...