Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Feb 27, 2019 · 1 min read

गद्दारों की बात न कर……!

गीत
*****

गद्दारों की बात न कर वो तो हर घर में रहते हैं
बिन पेंदी के हैं वो लोटे सदा लुढ़कते रहते हैं

आस्तीन का साँप बने हैं , आज घरों में घर वाले
देख सफलता अपनों की ही , करते उन संग घोटाले
कैसे हो बरवादी उनकी , यही सोचते रहते हैं
बिन पेंदी के हैं वो लोटे, सदा लुढ़कते रहते हैं

लूट गरीबों को वो अपनी, रोज तिज़ोरी भरते आ
जिसके कारण भूखे नंगे, लोग यहाँ पर मरते आ
बे परवाह हो मस्ती में वो, सदा झूमते रहते हैं
बिन पेंदी के हैं वो लोटे , सदा लुढ़कते रहते हैं

बेच रहे ईमान वो अपना, भृष्टाचार बढ़ा डाला
खौंप रहे अपनों के खंज़र, कैसा खेल रचा डाला
मात पिता को दे ताने , कटु वचन बोलते रहते हैं
बिन पेंदी के हैं वो लोटे, सदा लुढ़कते रहते हैं

इधर कभी तो उधर कभी और कभी दोगले हो जाते
जिस जिस घर से मिलता चारा, गुण उनके ही वो गाते
वोटों की जब आये बारी , हाथ जोड़ते रहते हैं
बिन पेंदी के हैं वो लोटे, सदा लुढ़कते रहते हैं

सुन लो साथी बचकर रहना , ऐसे मतलब खोरों से
अपनी पूँजी सदा बचाना, ऐसे अन्धे चोरों से
करना है बे पर्दा उनको , जो रूप बदलते रहते हैं
बिन पेंदी के हैं वो लोटे, सदा लुढ़कते रहते हैं

© डॉ. प्रतिभा ‘माही’

4 Likes · 1 Comment · 206 Views
You may also like:
" मां" बच्चों की भाग्य विधाता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
ऐ जाने वफ़ा मेरी हम तुझपे ही मरते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
किंकर्तव्यविमूढ़
Shyam Sundar Subramanian
'गुरु' (देव घनाक्षरी)
Godambari Negi
* बेकस मौजू *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
एक कसम
shabina. Naaz
✍️लोग जमसे गये है।✍️
'अशांत' शेखर
"अष्टांग योग"
पंकज कुमार "कर्ण"
अपने दिल से
Dr fauzia Naseem shad
💐भगवतः स्मृति: च सेवा च महत्ववान्💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बचे जो अरमां तुम्हारे दिल में
Ram Krishan Rastogi
मेरा भारत मेरा तिरंगा
Ram Krishan Rastogi
* तु मेरी शायरी *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कितना मुश्किल है पिता होना
Ashish Kumar
महादेवी वर्मा जी की वेदना
Ram Krishan Rastogi
नफरत है मुझे
shabina. Naaz
जीवन जीत हैं।
Dr.sima
नवगीत
Sushila Joshi
✍️एक आफ़ताब ही काफी है✍️
'अशांत' शेखर
रास रचिय्या श्रीधर गोपाला।
Taj Mohammad
पिता
Aruna Dogra Sharma
तुम पतझड़ सावन पिया,
लक्ष्मी सिंह
सरस्वती कविता
Ankit Halke jha Official's
रक्षाबंधन भाई बहन का त्योहार
Ram Krishan Rastogi
मनुष्यस्य शरीर: तथा परमात्माप्राप्ति:
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
वर्षा
Vijaykumar Gundal
वक्त का खेल
AMRESH KUMAR VERMA
धर्म निरपेक्ष चश्मा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️✍️जरी ही...!✍️✍️
'अशांत' शेखर
आज़ादी का अमृत महोत्सव
बिमल तिवारी आत्मबोध
Loading...