Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 2, 2021 · 2 min read

गज्जूली-भाग 1 (खुदा गवाह )

मध्य प्रदेश का एक जिला छिंदवाड़ा जहाँ एक 11 साल का लडका रहता था उसको सब प्यार से गज्जू बुलाते थे l
उसके घर के पास ही 5 साल की एक लड़की ज़िसका नाम जूली था उसकी नानी का घर था, जूली अक्सर गर्मियो मे अपनी नानी के घर आती थी और जब भी वो आती दोनो मिलकर आपस मे बहुत खेलते… जूली का ज्यादा वक़्त अपनी नानी के यहाँ से ज्यादा गज्जू के यहा ही बीतता l
गज्जू की माँ अपने हाथों से जूली को दाल चावल खिलाती ,वो उस परिवार मे बहुत घुल मिल गई थी l
एक बार की बात है सिनेमाहाल मे नई पिक्चर “खुदा गवाह ” लगी तो गज्जू अपने पूरे परिवार के साथ पिक्चर देखने जाने के लिए तैयार हो गया तो जूली भी उसके साथ हो ली…
सिनेमा हाल घर के थोड़ा पास ही था तो सब पेदल ही चल पड़े
जूली छोटी थी, तो कभी गज्जू उसको गोद मे लेता कभी उसकी बहन और ऐसे एक के बाद एक गोदी मे होते हुए जूली सिनेमा हाल पहुच जाती है l
पूरी पिक्चर गज्जू की गोद मे ही बैठकर देखती है पिक्चर तो उसको समझ नही आती पर हा उसको मज़ा बहुत आता है पिक्चर के बीच ही जूली की स्लीपर अंधेरे मे गुम जाती है जो आखिरी मे मिल भी जाती है l
सब ख़ुशी ख़ुशी पिक्चर देखकर आ जाते है और आते वक़्त भी जूली सबकी गोद मे ही आती है….कही न कही आने वाले वक़्त मे जूली और गज्जू के रिश्ते का गवाह वो खुदा रहता है l
जब तक जूली नासमझ होती हैं वो दोनो गर्मियो मे मिलकर अक्सर साथ खेलते थे पर जैसे जैसे जूली को समझ आने लगा की क्लास मे लडका और लड़की अलग बैठेते हैं तब से वो भी गर्मियो मे नानी के यहा तो आती पर गज्जू से कभी नही मिलती,पर मुलाकात यहा खत्म नही होती ये तो सिर्फ इस रिश्ते की नीव थी पूरी ईमारत बन ना बाकी था….शेष अगले भाग मे

2 Likes · 5 Comments · 202 Views
You may also like:
आदमी कितना नादान है
Ram Krishan Rastogi
की बात
AJAY PRASAD
जय जगजननी ! मातु भवानी(भगवती गीत)
मनोज कर्ण
तेरी याद में
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गर्भ से बेटी की पुकार
Anamika Singh
*!* अपनी यारी बेमिसाल *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
पिता
Santoshi devi
जय जगजननी ! मातु भवानी(भगवती गीत)
मनोज कर्ण
भ्रम है पाला
Dr. Alpa H. Amin
गाँधी जी की लाठी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
तो क्या होगा?
Shekhar Chandra Mitra
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग३]
Anamika Singh
हर दिन इसी तरह
gurudeenverma198
उस निरोगी का रोग
gurudeenverma198
आंखों का वास्ता।
Taj Mohammad
पिता
Ram Krishan Rastogi
बदला
शिव प्रताप लोधी
मैं कौन हूँ
Vikas Sharma'Shivaaya'
रास रचिय्या श्रीधर गोपाला।
Taj Mohammad
*अंतिम प्रणाम ! डॉक्टर मीना नकवी*
Ravi Prakash
इश्क नज़रों के सामने जवां होता है।
Taj Mohammad
फूल की ललक
Vijaykumar Gundal
**किताब**
Dr. Alpa H. Amin
युद्ध आह्वान
Aditya Prakash
कलम
AMRESH KUMAR VERMA
A wise man 'The Ambedkar'
Buddha Prakash
क्यों कहाँ चल दिये
gurudeenverma198
कन्या रूपी माँ अम्बे
Kanchan Khanna
【20】 ** भाई - भाई का प्यार खो गया **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
खाली मन से लिखी गई कविता क्या होगी
Sadanand Kumar
Loading...