Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

गजानन मत-जाना

मत जाना भगवान गजानन मत जाना ।
राह राह झगड़े होते है,
चक्का जाम अांदोलन होते है,
जानता करें पुकार गजानन मत-जाना ।
रोड़ टूट रहे,रेल पलट रहीं,
लेट लतीफ सब गाड़ी चल रहीं,
यात्रा में रेहो परेशान गजानन मत-जाना ।
राम रहीम से जेल जा रहे,
गुंडे साधु सा रूप बना रहे,
भक्त हो रहे वदनाम गजानन मत-जाना ।
गौशाला में गायें मर रहीं,
चारा पानी बिन तडफ रहीं,
चूहें कि कौन विसाद गजानन मत-
जाना ।
मूसलधार कही पानी बरसें,
कहीं कही पानी को तरसें,
मौसम को बिगडो मिजाज गजानन मत जाना ।
स्वछता अभियान चलो है,
राजा मंत्री सभी लगो है,
धरती स्वर्ग समान गजानन मत-जाना ।

राजेश कौरव “सुमित्र
बारहाबड़ा

1 Like · 207 Views
You may also like:
उस पथ पर ले चलो।
Buddha Prakash
रावण - विभीषण संवाद (मेरी कल्पना)
Anamika Singh
बुआ आई
राजेश 'ललित'
टेढ़ी-मेढ़ी जलेबी
Buddha Prakash
✍️आशिकों के मेले है ✍️
Vaishnavi Gupta
पिता का सपना
Prabhudayal Raniwal
आज तन्हा है हर कोई
Anamika Singh
कहीं पे तो होगा नियंत्रण !
Ajit Kumar "Karn"
समय का सदुपयोग
Anamika Singh
✍️वो इंसा ही क्या ✍️
Vaishnavi Gupta
मांँ की लालटेन
श्री रमण 'श्रीपद्'
काफ़िर का ईमाँ
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
Kavita Nahi hun mai
Shyam Pandey
सुन मेरे बच्चे !............
sangeeta beniwal
"फिर से चिपको"
पंकज कुमार कर्ण
समय को भी तलाश है ।
Abhishek Pandey Abhi
पिता
लक्ष्मी सिंह
उसे देख खिल जातीं कलियांँ
श्री रमण 'श्रीपद्'
रहे इहाँ जब छोटकी रेल
आकाश महेशपुरी
ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अच्छा आहार, अच्छा स्वास्थ्य
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
"चरित्र और चाय"
मनोज कर्ण
हर एक रिश्ता निभाता पिता है –गीतिका
रकमिश सुल्तानपुरी
बाबा साहेब जन्मोत्सव
Mahender Singh Hans
अपनी नज़र में खुद अच्छा
Dr fauzia Naseem shad
अधुरा सपना
Anamika Singh
सब अपने नसीबों का
Dr fauzia Naseem shad
गर्मी का रेखा-गणित / (समकालीन नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अब और नहीं सोचो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जीवन-रथ के सारथि_पिता
मनोज कर्ण
Loading...