Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Jul 31, 2016 · 1 min read

गजल

देख तुझको हमें करार मिला
आज जीवन कहीं उधार मिला

प्यास मिटती गई तभी मेरी
प्यार का जब मुझे खुमार मिला

जब मिला तू नहीं कभी उससे
रोज तेरा उसे इन्तजार मिला

साथ तेरा मुझे मिला प्यारा
जब रचा ब्याह साथ यार मिला

गोद मेरी भरी बहन ने जब
वक्त उस तो यहीं नया हार मिला

ढूढ़ता हूँ कहाँ -कहाँ उसको
वो हमें तो इसी नदी पार मिला

देख लाखों भटक रहे है क्यों
कर पता कोन सा न सार मिला

67 Likes · 1 Comment · 286 Views
You may also like:
तू तो नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
अनमोल राजू
Anamika Singh
आओ तुम
sangeeta beniwal
चमचागिरी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
भूखे पेट न सोए कोई ।
Buddha Prakash
अपनी आदत में
Dr fauzia Naseem shad
छलकता है जिसका दर्द
Dr fauzia Naseem shad
पितृ स्तुति
दुष्यन्त 'बाबा'
हे पिता,करूँ मैं तेरा वंदन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
तू कहता क्यों नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
तुम्हीं हो मां
Krishan Singh
नदी की पपड़ी उखड़ी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मेरे साथी!
Anamika Singh
गरम हुई तासीर दही की / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
गुरुजी!
Vishnu Prasad 'panchotiya'
हमें क़िस्मत ने आज़माया है ।
Dr fauzia Naseem shad
मत रो ऐ दिल
Anamika Singh
आंखों पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
पापा करते हो प्यार इतना ।
Buddha Prakash
पिता
Ram Krishan Rastogi
विचार
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
प्रेम में त्याग
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
श्रेय एवं प्रेय मार्ग
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जय जय भारत देश महान......
Buddha Prakash
मन
शेख़ जाफ़र खान
शहीदों का यशगान
शेख़ जाफ़र खान
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग१]
Anamika Singh
पिता का सपना
श्री रमण 'श्रीपद्'
पिता, पिता बने आकाश
indu parashar
Loading...