Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 May 2016 · 1 min read

गजल

मैं एक ढ़लती हुई शाम उसके नाम लिख रहा हूँ।
एक प्यार भरे दिल का कत्लेआम लिख रहा हूँ।

ता उम्र मैं करता रहा जिस शाम उसका चर्चा,
मैं आज उसी शाम को नाकाम लिख रहा हूँ ।

सोचा था न जाऊँगा जहाँ उम्र भर कभी भी,
उस मैकदे में अब तो हर शाम दिख रहा हूँ ।

हाँसिल न हुआ जिसमें बस गम के शिवा कुछ भी,
मैं उस दीवानेपन का अंजाम लिख रहा हूँ ।

थी हीरे सी चमक मुझमें प्यार के उजाले में,
नफरत के अंधेरों में पथ्थर सा दिख रहा हूँ ।

दुनिया की निगाहों से जिसे था छुपाया करता,
उस बेवफा का नाम सरेआम लिख रहा हू।
——मुकेश पाण्डेय

1 Like · 224 Views
You may also like:
शुभचिंतक, एक बहन
Dr.sima
राजनीति का सर्कस
Shyam Sundar Subramanian
वतन ही मेरी ज़िंदगी है
gurudeenverma198
काफिर कौन..?
मनोज कर्ण
" मेरी प्यारी नींद"
Dr Meenu Poonia
नारी (कुंडलिया)
Ravi Prakash
# क्रांति का वो दौर
Seema 'Tu hai na'
🚩 वैराग्य
Pt. Brajesh Kumar Nayak
तो पिता भी आसमान है।
Taj Mohammad
दूरियाँ
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
तुमको पाते हैं
Dr fauzia Naseem shad
गुलमोहर
Ram Krishan Rastogi
✍️हम सब है भाई भाई✍️
'अशांत' शेखर
शिवाजी महाराज विदेशियों की दृष्टि में ?
Pravesh Shinde
आशिक रोना चाहता है ------------
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
उसका हर झूठ सनद है, हद है
Anis Shah
मर्यादा का चीर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पग पग में विश्वास
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
क्या बताये वो पहली नजर का इश्क
N.ksahu0007@writer
तेरे बिना ये ज़िन्दगी
Shivkumar Bilagrami
हमदर्द हो जो सबका मददगार चाहिए।
सत्य कुमार प्रेमी
"सावन-संदेश"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
भोजपुरिया दोहा दना दन
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
खींच तान
Saraswati Bajpai
डियर जिंदगी ❤️
Sahil Shukla
बरसात की झड़ी ।
Buddha Prakash
जिन्दगी का जमूरा
Anamika Singh
मेरे सपनों का भारत
Shekhar Chandra Mitra
जाति- पाति, भेद- भाव
AMRESH KUMAR VERMA
भोजन
लक्ष्मी सिंह
Loading...