Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

गजल

आजादी के दीवाने #सरदार_भगतसिंह_जी के जन्मदिन पर उपहार स्वरूप मेरी ये गजल सादर भाव समर्पित?????????

भगतसिंह नाम कह दो आज भी मन काँपते दुश्मन।
गरज कर आँख दिखला दो अभी डर भागते दुश्मन।।

कहानी सुन भगतसिंह की जवानी लोग जीते क्या ?
अभी तक तो जवाँ है वो दिलों में मानते दुश्मन।।

अमरता पाइ है जिसने गले फंदा लगाकर के।
तभी से हिन्द दिल पर राज, सिंह का जानते दुश्मन।।

शहादत से भगतसिंह के हुये पैदा भगत भारत।
यहाँ घर-घर भगतसिंह हैं यही डर पालते दुश्मन।।

अदब से सर झुका करते कहे गाथा अगर कोई।
वतन श्रद्धा वतन जज़्बा नहीं फिर आँकते दुश्मन।।

भगत सरहद खड़े रहते लिये जाँ खुद हथेली पे।
कदम की ठोकरों से भी यहाँ भू चाटते दुश्मन।।

कहो जूझे नहीं कोई यहाँ बेटा भगतसिंह हर।
अगर हम मारने बैठे नहीं फिर नापते दुश्मन।।

कटायें सर मगर पहले हजारों काट लेते है।
फ़तह हासिल हमें हो फिर मिटा हम डालते दुश्मन।।

जरा सी चाह लेकर हम वतन पर जाँ छिड़कते हैं।
नजर से बच निकल जाये नहीं हम चाहते दुश्मन।।

भगतसिंह के बनाये धर्म पर चलना जरूरी है।
इसी अंदाज के कारण नहीं फिर झाँकते दुश्मन।।

मसीहा है वतन जन भी उसे जज़्बात में रखते।
अजादी सी लड़ाई अब नहीं फिर माँगते दुश्मन।।

यहाँ हर कण भगतसिंह है यही सब मानते भारत।
न भूले से कभी कोई यहाँ कण छानते दुश्मन।।

चलो जज़्बा लिए हम भी चले उस राह पर यारों।
मिटा दें नाम नक्शे से हमें जो डाँटते दुश्मन।।

यही उपहार देते आज हम यारों भगतसिंह को।
रहे आजाद यह भारत, तभी हम काटते दुश्मन।।

संतोष बरमैया #जय

163 Views
You may also like:
दहेज़
आकाश महेशपुरी
ढाई आखर प्रेम का
श्री रमण 'श्रीपद्'
ग़ज़ल- मज़दूर
आकाश महेशपुरी
'याद पापा आ गये मन ढाॅंपते से'
Rashmi Sanjay
'परिवर्तन'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
पिता एक विश्वास - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
कोई मंझधार में पड़ा हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
पिता के चरणों को नमन ।
Buddha Prakash
कशमकश
Anamika Singh
सही-ग़लत का
Dr fauzia Naseem shad
धरती की अंगड़ाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
दर्द इनका भी
Dr fauzia Naseem shad
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
रंग हरा सावन का
श्री रमण 'श्रीपद्'
"बेटी के लिए उसके पिता "
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
मृत्यु या साजिश...?
मनोज कर्ण
समसामयिक बुंदेली ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दिलों से नफ़रतें सारी
Dr fauzia Naseem shad
मेरी अभिलाषा
Anamika Singh
ख़्वाब आंखों के
Dr fauzia Naseem shad
जी, वो पिता है
सूर्यकांत द्विवेदी
"खुद की तलाश"
Ajit Kumar "Karn"
जाने क्या-क्या ? / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
तुमसे कोई शिकायत नही
Ram Krishan Rastogi
आज अपना सुधार लो
Anamika Singh
✍️अकेले रह गये ✍️
Vaishnavi Gupta
✍️कोई तो वजह दो ✍️
Vaishnavi Gupta
इस दर्द को यदि भूला दिया, तो शब्द कहाँ से...
Manisha Manjari
गर्मी का रेखा-गणित / (समकालीन नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ठोडे का खेल
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...