Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jul 2016 · 1 min read

गजल

बाँध लेता प्यार सबको देश से
द्वेष से तो जंग का आसार है

लांघ सीमा भंग करते शांति जो
नफरतों से वो जले अंगार है

होड़ ताकत को दिखाने की मची
इसलिये ही पास सब हथियार है

सोच तुझको जब खुदा ने क्यों गढ़ा
पास उसके खास ही औजार है

जिन्दगी तेरी महक ऐसे गयी
जो तराशी तू किसी किरदार ने

शाम होते लौट घर को आ चला
बस यहाँ पर साथ ही में सार है

हे मधुप बहला मुझे तू रोज यूँ
इस कली पर जो मुहब्बत हार है

68 Likes · 1 Comment · 375 Views
You may also like:
गुरु-पूर्णिमा पर...!!
Kanchan Khanna
मंजिल दूर है
Varun Singh Gautam
मौन भी क्यों गलत ?
Saraswati Bajpai
✍️करम✍️
'अशांत' शेखर
*पत्नी: कुछ दोहे*
Ravi Prakash
प्यारी मेरी बहना
Buddha Prakash
सुविचार
Godambari Negi
शोर मचाने वाले गिरोह
Anamika Singh
Writing Challenge- भय (Fear)
Sahityapedia
"पराधीन आजादी"
Dr Meenu Poonia
“ कोरोना ”
DESH RAJ
मेरी बेटी
लक्ष्मी सिंह
सूरज का ताप
सतीश मिश्र "अचूक"
पैसों की भूख
AMRESH KUMAR VERMA
आईना
KAPOOR IQABAL
जादुई कलम
Arvina
" चंद अश'आर " - काज़ीकीक़लम से
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
हाइकू (मैथिली)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
हम मुस्कुराकर बड़े ही शौक से दे देंगे।
Taj Mohammad
बंदिशे तमाम मेरे हक़ में ...........
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
मित्र दिवस पर आपको, प्यार भरा प्रणाम
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जीवन उत्सव
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कैसी ख्वाईश अब
गायक और लेखक अजीत कुमार तलवार
शायरी
Shyam Singh Lodhi Rajput (LR)
घर वापसी
Shekhar Chandra Mitra
जीवन में रिश्ते
Dr fauzia Naseem shad
शाम से ही तेरी याद सताने लगती है
Ram Krishan Rastogi
ज़िन्दगी
akmotivation6418
क्यूं कर हुई हमें मुहब्बत , हमें नहीं मालूम
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Yavi, the endless
रवि कुमार सैनी 'यावि'
Loading...