Sep 27, 2016 · 1 min read

गजल-2

————–
बेखुदी में गुनगुनाना चाहिये।
वक़्त से लम्हा चुराना चाहिये।
——————–
जो इशारों में सदा जाहिर हुए
आज लफ्जों को ठिकाना चाहिये।
””””””””””””'”””
क्यूं दी मेहरबानियाँ तुमने मुझे ,
हक मुझे ये आजमाना चाहिये।
“””””””‘””””””
रात दिन रहती थी रौनक मेरे घर,
अब उसे भी इक बहाना चाहिये।
“”””””””””””””’
साथ खुदगर्जी नहीं रखना कभी,
गर तुम्हें अपना जमाना चाहिये।
“”””””””””””””””
भूख अब इंसा निगलती जा रही,
जिंदगी को शामियाना चाहिये।
“”””””””””””””
खेत,बगिया,लहलहाते बस वहीँ,
बारिशों को गावं जाना चाहिये।

184 Views
You may also like:
माफी मैं नहीं मांगता
gurudeenverma198
*!* कच्ची बुनियाद *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
नाथूराम गोडसे
Anamika Singh
मेरे बुद्ध महान !
मनोज कर्ण
ग्रीष्म ऋतु भाग २
Vishnu Prasad 'panchotiya'
सीख
Pakhi Jain
गोरे मुखड़े पर काला चश्मा (व्यंग्य)
श्री रमण
हमने प्यार को छोड़ दिया है
VINOD KUMAR CHAUHAN
वार्तालाप….
Piyush Goel
ये जज़्बात कहां से लाते हो।
Taj Mohammad
✍️🌺प्रेम की राह पर-46🌺✍️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
भारत को क्या हो चला है
Mr Ismail Khan
जहर कहां से आया
Dr. Rajeev Jain
मन की उलझने
Aditya Prakash
संघर्ष
Rakesh Pathak Kathara
हिंसा की आग 🔥
मनोज कर्ण
ये ख्वाब न होते तो क्या होता?
सिद्धार्थ गोरखपुरी
हर ख्वाहिश।
Taj Mohammad
दोहे
सूर्यकांत द्विवेदी
'सती'
Godambari Negi
घनाक्षरी छन्द
शेख़ जाफ़र खान
You Have Denied Visiting Me In The Dreams
Manisha Manjari
हे राम! तुम लौट आओ ना,,!
ओनिका सेतिया 'अनु '
मां तो मां होती है ( मातृ दिवस पर विशेष)
ओनिका सेतिया 'अनु '
【 23】 प्रकृति छेड़ रहा इंसान
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
गांव शहर और हम ( कर्मण्य)
Shyam Pandey
कर्ज
Vikas Sharma'Shivaaya'
नर्सिंग दिवस पर नमन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
शर्म-ओ-हया
Dr. Alpa H.
ईश्वर के संकेत
Dr. Alpa H.
Loading...